लॉकडॉन में भी आइसा ने किया बिहारी छात्रों के लिए 12 घण्टे का भूख हड़ताल

0
15
- Advertisement -

खगड़िया जिले में आज छात्र संगठन आइसा ने बिहार सरकार व भारत सरकार के विरुद्ध 12 घण्टे का भूख हड़ताल रखा। उनलोगों कहना था कि हमारा मुख्य माँग हैं कि बिहार के बाहर फँसे बिहारी छात्रों को जल्द से जल्द सकुशल वापस लाया जाये। प्राइवेट स्कूल कॉलेज के छात्रों का फीस माफ किया जाए। लॉज में रह रहे छात्रों का किराया माफ किया जाए। खाने पीने के लिए राशन पानी की व्यवस्था किया जाए। इसके साथ ही साथ मजदूरों को तीन महीने का राशन व 10000रूपया का आर्थिक मदद दिया जाए।

उपवास में आइसा से दीपक कुमार दीपक, जीवन कुमार ज्योति कुमारी भाकपा माले के अभय वर्मा, चन्द्रशेखर वर्मा, शामिल हुए। उपवास के दौरान आइसा के जिला संयोजक दीपक कुमार दीपक ने कहा कि बिहार के बाहर फँसे बिहारी छत्रों को सकुशल वापस लाया जाए। क्योंकि अब उन छात्रों के पास खाने पीने का सामान ख़त्म हो गया है, बच्चे परेशान हैं और नीतीश सरकार सोई हुई हैं।

- Advertisement -

इसके साथ ही साथ हमारी दूसरी माँग हैं कि बिहार के जितने भी निजी स्कूल कॉलेज हैं, उनका 3 महीने का फीस माफ हो और जो छात्र लॉज में फँसे हुए हैं ,उनसे भी किराया तीन महीने का किराया नहीं लिया जाए। साथ ही साथ उपवास में शामिल भाकपा माले के नेता अभय वर्मा ने कहा कि बिहार समेत पूरे देश मे मजदूरों की हालत खराब हैं मजदूर कोरोना से ज्यादा भुखमरी से मर जायेंगे। जब उतर प्रदेश से 1000 श्रद्धालुओं को बस से वापस भेजा जा सकता हैं। दूसरे देशों से अमीरजादों को मँगवाया जा सकता हैं तो गरीब मजलूम पर इतना जुल्म क्यों? आज न्यूज़ चैनलों अखबार के माध्यम देखे तो हरेक जगह गरीब पर ही लाठी डंडे बरसाए जा रहे हैं जबकि देश के बाहर बैठे पैसों वालों के सम्मान जहाज भेज कर वापस मंगवाया जा रहा हैं।

उन्होंने कहा कि दूसरा यह कि कोरोना के नाम पर मुसलमानों को टारगेट किया जा रहा हैं। जिसके कारण फल वाले, सब्जी वाले, छोटे व्यवसायी मुसलमान इसके शिकार हो रहे हैं। जगह जगज गाँव गाँव में बजरंग दल, भाजपा, आरएसएस के कार्यक्रता मुस्लिम के खिलाफ लोंगो को भड़काने का काम कर रही हैं। इस पर पुलिस प्रशासन को तुरंत एक्शन लेना चाहिए।
उपवास में प्रशांत कुमार, सुरेंद्र कुमार, जीवन दर्शनम, राहुल कुमार, अमन आदि मौजूद थे।

अनिश चौरसिया
कोशी की आस@खगड़िया

- Advertisement -