टेढ़ागाछ के दर्जन टोला में कटाव रोधक कार्य आरंभ, जांच की मांग

0
69
- Advertisement -

किशनगंज : टेढ़ागाछ प्रखंड के धवेली पंचायत अंतर्गत रेतुआ नदी किनारे अवस्थित दर्जन टोला में विगत कई दिनों से गांव को कटाव से बचने के लिए जल निसरन विभाग द्वारा कटाव रोधक कार्य आरंभ किया गया है, जिससे स्थानीय ग्रामीणों में खुशी है। लेकिन स्थानीय ग्रामीणों ने बम्बो पाइलिंग में संवेदक द्वारा अनियमितता बरतने का आरोप लगाया है।

उन्होंने बताया कि रेतुआ नदी के कटाव के चपेट में आकर विगत दो वर्षों में लगभग 50 परिवार बेघर हो गये हैं। विगत वर्ष भी भीषण कटाव के कारण पीड़ित परिवार विस्थापित होकर इधर उधर हो गए हैं। वहीं सैकड़ों एकड़ उपजाऊ जमीन कटाव के कारण नदी में विलीन हो कर बालू में तब्दील हो गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि जल निसरन विभाग इस नदी के ताण्डव को नहीं देखा है और स्थानीय लोगों से स्थानीय जाँच के दौरान जायजा नहीं लिया गया। वे इस नदी को हल्के में लेकर बाँस का खूंटा व बालू की बोरी से कटाव रोधक का निर्माण कर रहा है जो केवल खाना पूर्ति करने जैसा प्रतीत हो रहा है।

- Advertisement -

स्थानीय ग्रामीणों के अनुसार रेतुआ नदी में जून से लेकर सितम्बर तक तीब्र गति से पानी का बहाव होता है। इस नदी में काफी तेजी से बाढ़ का पानी भर जाता है और आसपास के कई गांव को अपने कटाव के चपेट में ले लेता है। जिसके कारण नदी किनारे बसे दर्जनों गांव के सैकड़ों परिवारों को विस्थापित होना पड़ा है। यह कमजोर बम्बो पाईलिंग चंद मिनटों में अपने नदी के गर्त में समा जायेगा और गांव वासियों को फिर गांव छोड़कर भागने पर विवश होना पड़ सकता है।

स्थानीय ग्रामीणों में सूरज सिंह, अर्जुन सिंह, तिलकचंद सिंह, जवादुल आलम, कबिरुद्दीन, राजेश कुमार, विनोद कुमार, मजेबुल, तमीज उद्दीन, सरफोद्दीन ने वरीय उच्च पदाधिकारी से पुनः स्थलीय जांच कर कटाव रोधक योजना में बरती जा रही अनियमित की जांच करते हुए निर्माण कार्य में सुधार की मांग की है।

अबू फ़रहान छोटू
कोशी की आस@किशनगंज

- Advertisement -