मधेपुरा : बिहार प्रदेश जीविका कैडर संघ के बैनर तले 10 सूत्री मांगों के समर्थन में रविवार को जीविका कैडर की बैठक।

0
542
- Advertisement -

राहुल यादव
कोशी की आस@मधेपुरा।

बिहार प्रदेश जीविका कैडर संघ के बैनर तले अपनी 10 सूत्री मांगों के समर्थन में रविवार को जीविका कैडर की बैठक अयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष मिथलेश कुमार ने की। मौके पर संघ के प्रदेश महासचिव विवेक कुमार ने कहा कि जीविका महिला सशक्तिकरण के लिए बिहार सरकार की एक परियोजना है जिससे बिहार की करोड़ों महिलाएं जुड़ी हुई है।

- Advertisement -

उन्होंने आगे कहा कि विभिन्न सरकारी योजनाओं जैसे मानव श्रृंखला, वित्तीय साक्षरता, शराबबंदी, मनरेगा सर्वेक्षण, विद्यालय निरीक्षण, स्वच्छता और शौचालय निर्माण योजना के क्रियान्वयन में जीविका कर्मियों द्वारा महत्वपूर्ण भूमिका निभाया जा रहा है। इसके बावजूद सरकार हम लोगों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही हैं। सरकार जीविका को सिर्फ वोट बैंक के रूप में देखती है और यूज़ करती है लेकिन अब यह सब चलने वाला नहीं है। सरकार अगर हमारी 10 सूत्री मांगों को नहीं मानती, तो जीविका से जुड़े करोड़ों जमीन स्तर के कार्यकर्ता और जीविका दीदियां आगामी विधानसभा चुनाव में अपनी ताकत दिखाएगी।

जीविका सिर्फ कहने को रह गई है “महिला सशक्तिकरण की परियोजना” यहां सिर्फ लूट खसोट, शोषण और प्रताड़ना चल रहा है। सरकार को हमारी जायज मांगों के साथ-साथ इन सब मुद्दों पर भी पहल करनी चाहिए। जिला अध्यक्ष चंदन कुमार ने कहा की सरकार सभी संगठनों की मांग मान रही है, पर जीविका के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है, अब तेज आंदोलन छेड़ा जायेगा।

वहीं जिला उपाध्यक्ष शुशील कुमार ने कहा कि सरकार को चाहिए कि संघ की मांगों पर गंभीरता पूर्वक विचार करें नहीं तो सरकार अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहें, किसी भी कीमत पर जीविका कैडरों और दीदियों का शोषण नहीं होने देंगे।
संघ की मुख्य मांगों में सभी कैडरों को जीविका की ओर से नियुक्ति पत्र, पहचान पत्र और निर्धारित ड्रेस मिलें। मानदेय “कंट्रीब्यूशन सिस्टम” पर अविलंब रोक लगे, मानदेय का भुगतान नियमित और बैंक खाते में हो, काम से हटाने की धमकी पर रोक लगे और धमकी देने वाले पर सख्त क़ानूनी कार्रवाई हो, प्रखंड स्तर पर काम करने वाले कैडर का मानदेय 18000, संकुल स्तर पर 15000, ग्राम संगठन स्तर पर 13000 स्वयं सहायता समूह स्तर पर 12000 रूपये प्रतिमाह हो और सरकार इन सबों की नौकरी कम-से-कम 60 साल तय करें।

बैठक में सतीश कुमार, नवीन कुमार, अमरेश कुमार, रौशन कुमार, राजीव, अमन, अशोक, सरोज देवी, मुन्नी कुमारी, साबरा खातुन, आशा, ममता, पिंकी, टुना, बबीता, नीलम सहित कैडर के सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

- Advertisement -