मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक पर बेवजह महिला कर्मियों को बुलाने आरोप

0
389
- Advertisement -

मधेपुरा : जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज औऱ अस्पताल के अधीक्षक कर्नल डॉ अंसारी पर एक संगीन आरोप उनके ही कार्यालय में कार्यरत महिला कार्यपालक सहायक ने लगाया है। वहाँ कार्यरत कर्मियों ने अधीक्षक द्वारा कार्यालय में बार-बार केवल महिला कर्मियों को बुलाया जाने के आलावे मानसिक रूप से प्रताड़ित और दुर्व्यवहार करने का आरोप भी लगाया है। इस बाबत समस्त कार्यपालक सहायकों (पुरूष और महिला) ने संयुक्त रूप से एक पत्र आज स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को भेज दिया है।

प्रधान सचिव को भेजे शिकायत पत्र में कार्यपालक सहायकों ने आरोप लगाते हुए कहा है कि जननायक कर्पूरी ठाकुर चिकित्सा महाविद्यालय और अस्पताल मधेपुरा में अधीक्षक कार्यालय में उनके द्वारा नियोजित सभी कार्यपालक सहायकों को अधीक्षक द्वारा बार-बार दुर्व्यवहार करते हुए मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जाता है एवं कार्यपालक सहायकों द्वारा अंकित किए गए टिप्पणी एवं प्रारूप को पढ़कर सुधार करने के बजाय फाड़ कर फेंक दिया जाता है एवं उनके द्वारा कार्यपालक सहायकों के कंप्यूटर के पास जाकर धमकी दी जाती है एवं कहा जाता है कि मैं तुम्हारा कंप्यूटर पटक कर तोड़ दूंगा।

- Advertisement -

शिकायत पत्र में अधीक्षक द्वारा कार्यालय के सभी कार्यपालक सहायकों को एक ही सभागार में बैठाकर कार्य लिया जाता है जबकि भवन निर्माण संरचना में अधीक्षक कार्यालय अलग बनाया गया है जिसमें सभी कंप्यूटर के संलग्न हेतु बिजली कनेक्शन दिया गया है। दिनांक 3 मार्च 2020 से मनमाने ढंग से सभागार में हम लोगों को बैठाया जा रहा है जिसके कारण हम सभी कार्यपालक सहायकों में विश्वव्यापी महामारी कोरोना संक्रमण का भय बना रहता है। खासकर महिला कर्मियों के साथ उनका व्यवहार अत्यंत ही अशोभनीय रहता है। बार-बार बिना जरूरत के केवल महिला कर्मियों को बुलाया जाता है जिसके कारण महिला कर्मियों में हमेशा दहशत व्याप्त रहता है।

सरकार के प्रधान सचिव सामान्य प्रशासन विभाग बिहार सरकार के पत्रांक 8322 दिनांक 10-06 -2015 का हवाला देते हुए कर्मियों ने पत्र में लिखा है कि अधीक्षक द्वारा आज भी इसकी अवहेलना करते हुए सभी कार्यपालक सहायकों को यह कहकर बाहर कर दिया गया कि तुमलोगों का बहाली डीएम द्वारा रिश्वत लेकर किया गया है। कर्मियों ने बताया कि मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में अधीक्षक कार्यालय में योगदान उपरान्त लगातार ऐसा ही व्यवहार रहा है। बार बार इसे नजरअंदाज किया जाता रहा लेकिन अधीक्षक के द्वारा अपने करतूत से बाज नहीं आने के बाद आज विभाग को इस सम्बन्ध में सबों ने संयुक्त रूप से मिलकर पत्र भेजा गया।

ज्ञात हो कि अभी पिछले माह ही जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज और अस्पताल का उद्घाटन बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़े ही ताम-झाम से किया था। उद्घाटन के समय मुख्यमंत्री सहित, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पण्डे, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने अस्पताल के बारे में तरह तरह के तारीफ के पुल बांधे थे, साथ ही मेडिकल कॉलेज और अस्पताल को विश्वस्तरीय बताया था।

हालाँकि कार्यपालक सहायकों द्वारा विभाग को पत्र लिखे जाने की जानकारी के बाद पुरे परिसर में हलचल सा माहौल है। साथ ही संगीन आरोपों के सम्बन्ध में जब अधीक्षक बात करने से बचते नज़र आ रहे हैं।

राहुल यादव
कोशी की आस@मधेपुरा

- Advertisement -