मृत्युभोज जैसी प्रथा को बंद करने, पतंजलि जिला युवा प्रभारी उपेन्द्र कुमार योगी के नेतृत्व में बैठक

0
170
- Advertisement -

मधेपुरा जिले के शंकरपुर प्रखंड क्षेत्र के बेहरारी पंचायत के वार्ड 11 कल्हुआ गांव में अरुण यादव के पिता हरेराम यादव के मरणोपरांत मृत्यु भोज बंद करने हेतु पतंजलि जिला युवा प्रभारी उपेन्द्र कुमार योगी के नेतृत्व में बैठक आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता वार्ड सदस्य राजेश कुमार यादव ने की।

बैठक में ग्रामीणों ने सामूहिक रूप से वर्षों से चली आ रही मृत्यु भोज जैसी कुप्रथा को बंद करने का निर्णय लिया। बैठक में उपेन्द्र कुमार योगी ने कहा कि आज की यह परंपरा भी छोटे बड़े सभी सदस्यों की मृत्यु उपरांत दिखावे मात्र के लिए एक विस्तारित रूप देकर शोक संतप्त परिवार आर्थिक बोझ के तले दबता जा रहा है, आज फिर से समाज को इस पर गहन विचार करना होगा कि हमारा समाज किस दिशा में जा रहा है, यह मृत्यु भोज जो सिर्फ एक कलंक बनकर रह गया है, इसे किस हद तक सीमित किया जा सकता है।

- Advertisement -

श्री योगी ने कहा कि जरूरी है कि मृत्यु भोज जैसे सामाजिक व्यवस्था को बंद किया जाए। लोग आर्थिक रूप से सक्षम हो और खर्च करना चाहते हो तो मृत्यु भोज पर खर्च ना कर समाज के उत्थान और सामूहिक विकास के साथ-साथ ऐसे गरीब परिवार के बच्चों की शिक्षा को आगे बढ़ाने में भी योगदान करें, जिससे समाज का विकास होगा।

मौके पर विनोद आर्य ने भी अपने संबोधन में मृत्यु भोज जैसी कुप्रथा को बंद करने हेतु अहम पहल की बात कही। उन्होंने कहा कि अब समाज को बदलने की जरूरत है तभी मेरा समाज आर्थिक रूप से मजबूत होंगे। हाँलाकि बैठक में कुछ ग्रामीण ने दबी जुबान से मृत्यु भोज बंद करने का विरोध भी किया लेकिन सैकड़ों ग्रामीणों ने मृत्यु भोज जैसी परंपरा पर विराम लगाने का पूरा समर्थन किया। साथ ही मुखिया राहुल कुमार ने भी इसे सराहनीय पहल बताया।

उपेंद्र कुमार योगी ने समाज के सभी सम्मानित सदस्यों से आग्रह किया कि मृत्यु भोज समाज में फैली कुरिती है, समाज के लिए अभिशाप है। इसका बहिष्कार करें इस कुरीति का सामाजिक स्तर पर समाधान कर सीमित किया जाना चाहिए ताकि यह कुरिति, कुरिति न रहकर एक आदर्श संस्कार हो जाए।

उन्होंने कहा कि हर वह व्यक्ति जो इस समाज में हो और इस कुरितियों को एक आदर्श संस्कार बनाना चाहता हो तो एक व्यक्ति जो कि वह स्वयं है, अपने आप को बदलने और इस आदर्श कार्य की और सच्चे मन से अग्रसर हो जाए तो बहुत कुछ बदलाव हो सकता है। बैठक मे रामचंद्र यादव , नागौ यादव , कैलु यादव , राजदेव यादव , कमो यादव , महेश्वरी यादव, भोगीलाल , यादव , सुबोध यादव , ब्रह्मी यादव , रामचंद्र यादव सभी ने पूर्ण सहमति दी।

राहुल यादव
कोशी की आस@मधेपुरा

 

- Advertisement -