शबे-बरात के अवसर पर कब्रिस्तान, मजार एवं मस्जिदों में न करें दरूद, फातिया व ईबादत – एसडीओ

0
204
- Advertisement -

मधेपुरा जिले के उदाकिशुनगंज अनुमंडल पदाधिकारी एस जेड हसन ने पत्र जारी करते हुए अनुमंडल क्षेत्र के सभी मुस्लिम भाइयों एवं बहनों से अपील की है कि वर्तमान वायरस संकट के मद्देनजर संपूर्ण हिंदुस्तान में लॉकडाउन है तथा मस्जिदों में पंजगाना, जुमा की नमाज तथा जमात पर सामूहिक रूप से नमाज अदा नहीं की जा रही है क्योंकि वायरस से बचने के लिए कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाए रखना जरूरी है।

अतः 9 अप्रैल (जुमेरात) को शबे-बरात के त्यौहार के अवसर पर लोग आमतौर पर कब्रिस्तान तथा मजार पर फातेहा पढ़ने जाते हैं एवं मस्जिदों में भी इकट्ठा होकर रात भर इबादत करते हैं, परंतु इस वर्ष संपूर्ण देश में लॉकडाउन की वजह से लोग अपने घर से बाहर नहीं निकले और शबे -बरात के दिन कब्रिस्तान, मजार एवं मस्जिद में दरूद फातिया व ईबादत करने के बजाय घर में ही करें।

- Advertisement -

इस संदर्भ में सुन्नी /शिया वक्फ बोर्ड पटना द्वारा भी अपील की गई है। इसलिए उदाकिशुनगंज अनुमंडल क्षेत्र के सभी मुस्लिम भाइयों एवं बहनों से यह अपील की जाती है कि वायरस के संक्रमण से बचने के लिए शबे- बरात के मौके पर आप सभी लोग कब्रिस्तान मजार व मस्जिदों में ना जाकर अपने घर में ही दरूद फातिया व इबादत करें और मरहूमीन के ईसाले सवाब के लिए दुआ करें।

प्रीतम कुमार
कोशी की आस@मधेपुरा

- Advertisement -