टीईटी शिक्षक ट्विटर हैशटैग टीम” ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के आलोक में ट्विटर पर दिखाया अपना जनसमर्थन

0
74
- Advertisement -

टीईटी शिक्षक ट्विटर हैशटैग टीम” ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के आलोक में अपनी मांग के समर्थन में ट्विटर पर हैशटैग ” #TET मतलब सहायक शिक्षक ” ट्रैंड कराने का सफल प्रयास किया। उक्त हैशटैग को ट्रेंड कराने के लिए सफल प्रयास किया गया। इस हैशटैग को टीईटी शिक्षकों के अलावे विविध क्षेत्रों से भारी समर्थन मिला परिणामस्वरूप हैशटैग से संबद्ध लगभग हजारों ट्विट किए गए। इस अभियान में टीईटी उत्तीर्ण शिक्षकों ने बेहद सक्रियता से सहभागिता सुनिश्चित कराई। टीम के सदस्य अतुल कुमार,उमेश यादव, मंजीता रानी झा,अल्पना करन,अमीम आलम,टुनटुन कुमार, बृजेश कुमार ,राम एकबाल दूबे,विकास रंजन वर्मा,राकेश कुमार सिंह,प्रभा सिंह,मनोज कुमार,राजीव कुमार, रविशंकर शर्मा के अलावे बहुत सारे टीईटी शिक्षकों के अथक प्रयास से यह संभव हो पाया।

मालूम हो कि सर्वोच्च न्यायालय ने “समान कार्य के लिए समान वेतन” मामले SLP 20/2018 में फैसले के पैरा 78 में बिहार सरकार को गुणवतापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने के जनता के संवैधानिक अधिकार के निर्वहन के अनुरूप दायित्व का बोध कराते हुए शिक्षकों की दक्षता टीईटी परीक्षा जैसे मापदंड के जरिए निर्धारित कर बेहतर वेतनमान देने का सुझाव दिया था। किन्तु सरकार ने सहुलियत के हिसाब से उस सुझाव पर कोई ध्यान नहीं दिया और पांच वर्षों की प्रतीक्षा के उपरांत प्रदत्त पंचायत प्रारम्भिक विद्यालय सेवा (नियुक्ति, प्रोन्नति, स्थानांतरण, अनुशासनिक कार्रवाई एवं सेवा शर्त) नियमावली 2020 में टीईटी परीक्षा को दक्षता परीक्षा के बराबर दर्जा देकर टीईटी पास शिक्षकों के साथ-साथ NCTE, RTE, NEP2020 के प्रावधानों का भी तिरस्कार किया है।सरकार जब तक अन्य राज्यों की भांति टीईटी शिक्षकों को सहायक शिक्षक संवर्ग में समस्त देय सुविधाओं के साथ समायोजित नहीं करती संघर्ष जारी रहेगा।

- Advertisement -

राहुल यादव
कोशी की आस@चौसा, मधेपुरा

- Advertisement -