माँ के कफन को आंचल समझकर खेलता रहा, डेढ़ साल का रहमत

0
316
- Advertisement -

बिहार के मुजफ्फरपुर से दिल दहला देने वाली घटना सामने आ रही है, जहाँ श्रमिक स्पेशल ट्रेन से अहमदाबाद से मधुबनी जा रही एक महिला ने मुजफ्फरपुर में दम तोड़ दिया और उसके दो मासूम इस उम्मीद के साथ शव के साथ खेलते रहे कि माँ सोई हुई है।

घटना मुजफ्फरपुर की है, डेढ़ साल के मासूम रहमत की माँ नहीं रही। परिवार कहता है कि गर्मी के कारण श्रमिक स्पेशल ट्रेन में तबीयत बिगड़ी थी जबकि सरकार कहती है कि पहले से बीमार थी और दिमागी हालत भी ठीक नहीं थी। लेकिन, रहमत समझ नहीं सका था कि माँ को क्या हुआ? क्यों हुआ? उसे तो बस यही लग रहा था कि भरी दोपहरी में माँ वचादर ओढ़ कर प्लेटफार्म पर सो गई है।

- Advertisement -

अपनी जिंदगी के सबसे बड़े नुकसान से बेखबर रहमत माँ के कफन को आंचल समझकर खेलता रहा, इस उम्मीद में कि थोड़ी देर बाद जब माँ जग जाएगी और कहेगी…. रहमत! बेटा कुछ खा ले….. कोरोना संकट के बीच दिल दहलाने वाली यह घटना सोमवार को बिहार के मुजफ्फरपुर में हुई। इसका वीडियो बुधवार को सामने आया। मृत महिला का नाम अरवीना खातून (23) था।

बहन और जीजा के साथ 23 मई को अहमदाबाद से मधुबनी श्रमिक स्पेशल ट्रेन में चढ़ी थी। बीच में ट्रेन काफी देर रुकी रही। 25 मई को भीषण गर्मी के बीच अरवीना ने मुजफ्फरपुर स्टेशन से कुछ घंटे पहले ट्रेन में ही दम तोड़ दिया।

हालांकि, रेलवे ने कहा कि महिला पहले से बीमार थी और उसकी मानसिक स्थिति भी ठीक नहीं थीं। महिला के दो बेटे हैं, 4 साल का अरमान और डेढ़ साल का रहमत। रहमत के जन्म के आसपास ही अरवीना को उसके पति ने छोड़ दिया था।

सौर्स- दैनिक भास्कर

- Advertisement -