कोरोना से बचाव के लिये डीएम के नेतृत्व में जिलास्तरीय समन्वय समिति व टास्क फोर्स की बैठक

0
73
- Advertisement -

मुंगेर : देश भर में कोरोना वायरस के 75 मामलों की पुष्टि होने के बाद राज्य सरकार हाई अलर्ट पर है। इसी कारण समाहरणालय सभागार में शुक्रवार को कोरोना (कोबिड-19) वायरस को लेकर जिलास्तरीय समन्वय समिति व टास्क फोर्स की बैठक जिलाधिकारी राजेश मीणा ने की। बैठक में विशेष रूप से मीडिया कर्मियों को भी आमंत्रित किया गया। बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने कोरोना वायरस से बचाव एवं आमजनों में जागरूकता के लिए किए जा रहें व्यवस्थाओं पर विचार-विमर्ष किया।

जिलाधिकारी ने सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि जिले के सदर अस्पताल में नियमित रूप से इस संबंध में बैठक आयोजित करें तथा सभी चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों को आवश्यक जानकारी देने के साथ-साथ मॉकड्रील भी करें। उन्होंने आमजनों के जागरूकता को लेकर प्रचार-प्रसार के लिए एक एडवाईजरी का पम्पप्लेट वितरण करने को कहा।

- Advertisement -

06 बेडों वालों नया आइसोलेशन वार्ड

बैठक में सिविल सर्जन ने बताया कि सदर अस्पताल में पूर्व के आइसोलेशन वार्ड को बदल कर दूसरा आइसोलेशन वार्ड तैयार कर लिया गया है। जिसमें फिलहाल 06 बेड लगाया गया है। जहाँ संदिग्ध मरीज को 14 दिनों की चिकित्सिकीय निरीक्षण में रखा जाना है। यहाँ सावधानी के लिए पीपी कीट (पर्सनल प्रोटेक्सन कीट) व मास्क प्रयाप्त मात्रा में उपलब्ध है। चिकित्सकों की क्यूआरटी टीम आइसोलेशन वार्ड में तत्पर है। साथ ही मरीज की सुविधा के लिए वार्ड के भीतर ही शौचालय व वाशरूम की भी व्यवस्था की गयी है। वार्ड में फिलहाल 10 पीपी कीट, पर्याप्त मात्रा में मास्क, आवश्यक दवाइयां तथा दो ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था की गयी है।

कोरोना के सामना के लिए किया जा रहा प्रचार-प्रसार

बैठक में बताया कि क्रियान्वयन के लिए एसओपी तैयार है, जिसके अनुरूप बचाव व सावधानी के लिए प्रचार-प्रसार भी किया जा रहा है। सभी प्रखंडों एवं चौक-चैराहों पर क्या करें और क्या नहीं करे से संबंधित एडवाईजरी का बैनर के माध्यम से प्रसारित करने का निर्देश दिया गया। इसके लिए सुसज्जित एबुलेंस को चिह्नित भी किया गया है।

कोरोना के एक भी पॉजेटिव मरीज की पुष्टि नहीं

जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि अभी जिले में किसी प्रकार का कोरोना से संक्रमित व्यक्ति की पुष्टि नहीं हुई है। किसी प्रकार की डरने की बात नहीं है। उन्होंने लोगों से अपील किया कि पैनिक होने की आवश्यकता नहीं है लेकिन सतर्क रहना आवश्यक है। भीड़-भाड़ वाले इलाकों में अनावश्यक रूप से जाने से बचें। सिविल सर्जन ने इस संबंध में तकनिकी जानकारी देते हुए कहा कि इस वायरस का वाहक सिर्फ और सिर्फ एक व्यक्ति ही होता है। छींकने और खांसने पर एक मीटर के दायरे तक ही इसका प्रसरण होता है। तत्पश्चात तुरंत यह वायरस खत्म हो जाता है। इसलिए मास्क का प्रयोग करते हुए संदिग्ध के साथ न्यूनतम दूरी बनाये रखें। अपने हाथों को बार-बार साबुन से धोंये तथा इसे स्वच्छ रखें।

कोरोना का सावधानी ही बचाव है

दिन में कई बार अपने हाथों को 20 सेकेंड तक साबुन से धोयें।
यदि सेनीटाइजर का प्रयोग कर रहे हैं तो सुनिश्चित कर लें कि इसमें 60 प्रतिशत या इससे अधिक अल्कोहल हो।
यदि किसी व्यक्ति को बुखार है या खांस या छींक रहा है तो उससे कम से कम दो मीटर की दूरी बना कर रहें।
भीड़ में न जायें तथा भीड़ वाले स्थान जैसे होटल, सिनेमा हॉल व मॉल में जाने से बचें।
अपनी आंख, नाक व चेहरे को न छुएं।
हर एक घंटे में या जैसा संभव हो गरम पानी पीते रहें।
अनावश्यक यात्रा से बचें।
खांसते या छींकते वक्त चेहरे को रूमाल या साफ कपड़े से ढंके।
खूब पानी व तरल पदार्थ पीयें।
मांसाहारी व खाद्य पदार्थों का सेवन न करें और फल, सब्जी, नींबू, संतरे का सेवन करें।
ठंडे व बासी खाना से बचें।
नियमित रूप से कपड़ों का धोयें।
कमरा को साफ व हवादार बनायें।
साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।

- Advertisement -