अंतिम वर्ष के छात्रों के अकादमिक मूल्यांकन संबंधी निर्णय दूरगामी एवं स्वागतयोग्य : अभाविप

0
38
- Advertisement -

जानकीनगर (पूर्णिया): अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, वर्तमान परिस्थितियों में अंतिम वर्ष के छात्रों के भविष्य के दूरगामी उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय द्वारा परीक्षा आयोजित कराने की अनुमति प्रदान करने के कदम का हार्दिक स्वागत करती है‌‌। यह निर्णय संबंधित छात्रों के भविष्य संबंधी उद्देश्यों के परिप्रेक्ष्य में दूरगामी है।

ज्ञात हो कि बार काउंसिल ऑफ इंडिया, मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया आदि नियामक प्राधिकरणों ने पूर्व में ही अपने अधिकार क्षेत्र के व्यवसायिक/पेशेवर पाठ्यक्रमों हेतु अनिवार्य अकादमिक मूल्यांकन संबंधी दिशा-निर्देश जारी किए थे। छात्रों के भविष्य में मूल्यांकन के महत्व को ध्यान में रखते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा भी मई-जून महीने में डिजिटल सम्पर्क अभियान के तहत देशभर के 8 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं के सुझावों को संग्रहीत किया गया था तथा अधिकतर छात्र-छात्राओं ने मूल्याकंन के दूरगामी उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए अपने सुझाव दिए थे।

- Advertisement -

अभाविप के जिला संयोजक अभिषेक आनंद ने कहा कि, “अभाविप सभी उच्च शैक्षणिक संस्थानों द्वारा यूजीसी, स्वास्थय मंत्रालय आदि द्वारा वर्तमान समय की परिस्थितियों हेतु निर्धारित नियमों का अनुपालन करते हुए, छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखकर मूल्यांकन करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाने का आग्रह करती है, साथ ही छात्र समुदाय से यह आग्रह करती है कि इस निर्णय को अपने भविष्य को ध्यान में रखते हुए व्यापक परिदृश्य में देखे। साथ ही वर्तमान में कई कथित छात्र हितैषियों ने जो छात्रों को अनावश्यक रूप से भ्रमित करने का काम किया है, वह निंदनीय है। शैक्षणिक संस्थानों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि मूल्यांकन हेतु छात्रों की सुविधानुसार व संसाधनों की उपलब्धता को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन के साथ स्वास्थय‌ सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए ऑफलाइन विकल्प भी उपलब्ध हों।”

प्रफुल्ल कुमार सिंह
कोशी की आस@पूर्णियाँ

- Advertisement -