छात्रों के शैक्षिक एवं छात्रावास शुल्क में राहत को लेकर, अभाविप ने सौंपा आग्रह पत्र

0
144
- Advertisement -

जानकीनगर (पूर्णिया): अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जानकीनगर विस्तार केन्द्र के प्रतिनिधि मंडल छात्रों के शैक्षिक एवं छात्रावास शुल्क में राहत देने को लेकर चोपड़ा बाजार स्थित सरस्वती विद्या बिहार, न्यु पब्लिक काॅन्वेंट, शांति शिक्षा निकेतन, नवयुग विद्या विहार रामनगर, एम्बीशन एकेडमी सहित अन्य नीजी विद्यालयों/संस्थानों के प्राचार्य/निर्देशक एवं छात्रावास प्रबंधक को आग्रह पत्र सौंपा गया। मौके पर जिला संयोजक अभिषेक आनंद ने कहा कि हम सभी को ज्ञात है कोविड-19 महामारी के कारण लाॅकडाउन लगाने के कारण सभी क्षेत्रों पर इसका व्यापक प्रभाव पड़ा है। शायद ही कोई क्षेत्र हो जो इससे प्रभावित नही हुआ है। विभिन्न औद्योगिक गतिविधियों के साथ ही लोगों की नौकरी पर संकट उत्पन्न हो गया और आमदनी शून्य हो गईं।

स्कूलों की भी स्थिति यही थी जहाँ पढ़ाई बंद हो गई और स्कूल की आमदनी भी ठप हो गई। इन सबके बीच अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने एक तालमेल और सामंजस्य बनाने की पहल की है। वर्तमान में अभिभावक गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं और परिवार का भरण-पोषण पर भी संकट खड़ा है। स्कूल प्रबंधन के सामने भी कुछ ऐसी ही स्थिति बनी हुई है। जहाँ आमदनी नही होने पर खर्च चलाना कठिन कार्य होगा। इस विपरीत परिस्थिति में सभी लोगों ने को अपने दायित्वों का निर्वहन करना होगा और उस हद तक लोगों के कल्याण की बात सोचनी होगी। जिस आम दिनों में सोचने की जरूरत नही थी। स्वयं का लाभ समाप्त कर दूसरों को राहत देने का विचार करना होगा, तभी हम इस परिस्थिति में एक दूसरे के प्रति लगाव तथा सम्मान बना रहे।

- Advertisement -

स्कूल प्रबंधन से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद कुछ आग्रह करती है और अपेक्षा है कि इस आग्रह पर साकारात्मक पहल होगी जो जिले के लिए मील का पत्थर साबित होगा। अन्य जिलों के लिए यह जिला हमेशा की तरह उदाहरण बनकर सामने आएगा।

उपाध्यक्ष अक्षय कुमार बियाहुत ने कहा कि हमारा आग्रह है कि स्कूल एवं छात्रावास प्रबंधन छात्रों जिसकी आवश्यकता है। ट्यूशन फीस के अलावा अन्य शुल्क पर रोक लगाई जाए। वाहन, बिजली, मैस, अन्य व्यवस्था शुल्क पर पूरी तरह रोक लगे। तीन महीने की स्कूल फीस को एक बार में नही लेकर किस्तों में जमा करने की व्यवस्था की जाए। कुछ ऐसे अभिभावक जो आर्थिक रूप से काफी कमजोर है, उन्हें इसमें राहत दी जाए और उनके बच्चों की स्कूल फीस माँफ हो। ऐसे लोगों की जानकारी भी सार्वजनिक की जाय। ऑनलाइन क्लास को गुणवत्ता पूर्ण तरीके से संचालित किया जाए तथा भविष्य की चुनौतियों के अनुरूप तैयारी कर बच्चों को लाभ दिलाया जाय।

प्रफुल्ल कुमार सिंह
कोशी की आस@पूर्णियाँ

- Advertisement -