कोरोना संकट के दौरान भी चाइल्ड लाइन पूर्णियाँ कर रहा है, अपने कर्तव्यों का निर्वहन।

0
39
- Advertisement -

प्रफुल्ल कुमार सिंह

कोशी की आस@पूर्णियाँ

- Advertisement -

सोमवार दोपहर चाइल्ड लाइन पूर्णियां को 1098 पर सूचना प्राप्त हुई कि एक भटका हुआ बच्चा सदर अस्पताल के गेट के सामने है। सूचना मिलते ही चाइल्ड लाइन की स्पेशल टीम मौके पर पहुँचकर सबसे पहले बच्चों को अपने संरक्षण में लेकर सदर अस्पताल में मौजूद डाक्टर से चेक अप कराया। जब डाक्टर बच्चे की पूरी तरह जांच कर संतुष्ट हो गये तब उन्होने बच्चे को लेकर चाइल्ड लाइन ले जाने की अनुमति दी। बच्चे को लेकर चाइल्ड लाइन की स्पेशल टीम सीधे बाल गृह पहुंची। वहाँ पर बच्चे से जब चाइल्ड लाइन की स्पेशल टीम ने काउंसलिंग की तो बच्चे ने चौंकाने वाले खुलासे किये।

चाइल्ड लाइन के मो शहजादा हसन ने बताया कि बच्चे की उम्र सोलह वर्ष है। जो सरसी थाना क्षेत्र के बहोरा फाटक के वार्ड नंबर 09 का बताया जा रहा है। जो भोजपुरी फिल्म अभिनेता खेसरी लाल यादव की चाहत में अपने घर को छोड़कर कर पूर्णिया पहुंच गया। बच्चा एक ही रट लगाये हुए था कि मुझे आप लोग खेसारी लाल यादव से मिला दे। इस बच्चे की मिलने की सूचना जब चाइल्ड लाइन पूर्णिया द्वारा उसके अभिभावक रविन्द्र यादव को दूरभाष पर सूचना देकर बाल गृह आने को कहा गया। बच्चे के पिता सूचना मिलते ही आवश्यक कागजात लेकर बाल गृह पहुंचे।

अभिभावक रविन्द्र यादव को बच्चे ने कहा था कि मेरे हिस्से की जमीन बेचकर दे दिजीये ताकि मैं उस रूपए से भोजपुरी फिल्म अभिनेता खेसरी लाल यादव से मिल सकूं। ताकि मैं उनके साथ मिल कर फिल्म बना सकूंगा। इसी बात को लेकर मैंने अपने पुत्र को डांटा तो वह घर छोड़कर फरार हो गया। चाइल्ड लाइन ने बाल कल्याण समिति पूर्णिया एंव बाल गृह अधीक्षक के सामने आवश्यक कागजात लेकर बच्चे को सुपुर्द कर दिया। साथ ही चाइल्ड लाइन द्वारा उसके अभिभावक को सलाह दिया कि इसे किसी अच्छे डाक्टर या फिर काउसेलर से मिलकर काउंसलिंग कराने की आवश्यकता है, ताकि बच्चा दुबारा इस प्रकार के घटना को अंजाम न दे। इस मौके पर बाल कल्याण समिति के सदस्य संतोष कुमार सिंह, चाइल्ड लाइन के मो शहजादा हसन, मयुरेश गौरव, रूबी साह, बाल गृह की अधीक्षिका सुश्री अर्पना विश्वास, पिंटू कुमार, अखलेश कुमार आदि मौजूद थे।

- Advertisement -