मैथ्स के जादुगर कोचिंग सेंटर में मना शिक्षक दिवस

0
360
- Advertisement -

प्रफुल्ल कुमार सिंह

कोसी की आस@ बनमनखी, पुर्णियाँ

- Advertisement -

पुर्णियाँ जिले के बनमनखी प्रखंड के नगर पंचायत राजहाट स्थित मैथ्स के जादूगर कोचिंग सेंटर में 5 सितंबर को बड़े धूमधाम से देश के सर्वप्रथम उपराष्ट्रपति और भारत के द्वतीय राष्ट्रपति रहे शिक्षक श्रद्धेय डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जयंती कोचिंग संचालक एसके मित्तल एवं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं सहित उपस्थित छात्र-छात्राओं ने केक काटकर मनाया। इस अवसर पर उपस्थित छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश मंत्री शशि शेखर कुमार ने कहा कि हमलोग जो आज शिक्षक दिवस मना रहे हैं, आज का दिन हम सभी छात्र-छात्राओं सहित देशभर के शिक्षकों के लिए बड़ा ही गर्व का दिन है, चूँकि आज ही 5 सितम्बर को डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन साहब का जन्म हुआ था और उनके जन्म जयंती को ही हमलोग शिक्षक दिवस के रूप में मनाते हैं।

उन्होंने आगे बताया कि शिक्षक दिवस बड़े धूमधाम से मनाया जाना भी चाहिए, लेकिन असली शिक्षक दिवस तब सार्थक होगा जब हम अपने श्रद्धेय गुरुजनों / शिक्षकों का मान सम्मान जीवन भर करेंगे, तब जाकर शिक्षक दिवस सफल होगा। हमलोग जानते हैं कि श्रद्धेय डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन साहब एक शिक्षक रहते हुए उन्होंने अपने जीवन में इस प्रकार के कार्य किए कि वह भारत के प्रथम व्यक्ति बन गए। शिक्षक रहते हुए सर्वप्रथम वह भारत के प्रथम उप राष्ट्रपति बने तत्पश्चात भारत के द्वितीय राष्ट्रपति बने।

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन साहब का जन्म 5 सितंबर 1888 ईस्वी को तिरुत्तनी ग्राम तमिलनाडु राज्य में हुआ था। उनके पिता का नाम सर्वपल्ली वीरास्वामी और माता का नाम सीताम्मा तथा पत्नी का नाम शिवाकमु था। डॉक्टर राधाकृष्णन मद्रास के प्रेसिडेंसी कॉलेज से अध्यापन का कार्य शुरू करने वाले राधाकृष्णन आगे चलकर मैसूर विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हुए और फिर देश के कई विश्वविद्यालयों में शिक्षण कार्य किया। 1940 से लेकर 1948 तक वह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय बीएचयू के कुलपति भी रहे। वह दर्शनशास्त्री, भारतीय संस्कृति के संवाहक और आस्थावान हिंदू विचारक थे। ऐसे ही सम्मानित शिक्षक के सम्मान में उनका जन्मदिन आज हमलोग शिक्षक दिवस के रूप में मनाते आ रहे है। डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन साहब साधारण परिवार में जन्मे तिरुत्तनी एवं तिरुपति जैसे धार्मिक स्थानों पर बीता व शुरू से ही पढ़ाई लिखाई पढ़ाई मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज में पूरी हुई, स्कूल के दिनों में ही स्वामी विवेकानंद और वीर सावरकर को पढ़ लिए तथा उनके विचारों को आत्मसात भी कर लिए। श्री कुमार ने कहा कि हम सभी छात्र-छात्राओं को भी डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन साहब के बताए हुए मार्ग पर निश्चित रूप से चलना चाहिए ताकि हमलोगों को भी इसी प्रकार का सफलता मिले।

इस अवसर पर इस कार्यक्रम का व्यवस्था देख रहे अभाविप के जिला कार्यसमिति सदस्य मंगल कुमार विकास कुमार छात्रसंघ अध्यक्ष अभिषेक कुमार सिंह, धीरज कुमार, गोपाल कुमार, रवि कुमार, सनी कुमार, दीपक कुमार, पप्पू कुमार तिवारी, रानी कुमारी, अर्चना कुमारी, कविता कुमारी, पायल कुमारी, पूजा कुमारी, मधु कुमारी, वैष्णवी कुमारी, पंकज कुमार, संतोष कुमार, राजकुमार सहित दर्जनों छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

- Advertisement -