पूर्णिया प्रमंडलीय पत्रकार संघ का प्रशासन से पत्रकार के खिलाफ मुकदमा वापस लेने का मांग

0
68
- Advertisement -

पूर्णिया प्रमंडलीय पत्रकार संघ की एक अतिआवश्यक बैठक संघ के अध्यक्ष गंगा प्रसाद चौधरी के अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट में की जा रही पत्रकारिता की सराहना की गई। वही पूर्णिया प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के सहयोगात्मक व्यवहार की प्रशंसा करते हुए दो बिंदुओं पर मिले असहयोगात्मक व्यवहार पर चिंता भी व्यक्त की गई।

प्रमंडलीय पत्रकार संघ ने माना कि पूर्णिया सहित चारों जिले के पत्रकार इस विकट परिस्थिति में पूरी संवेदना और संवेदनशीलता के साथ पत्रकारिता करते हुए अपने कर्तव्य निष्ठा का परिचय दे रहे हैं, ऐसी स्थिति में पुलिस एवं प्रशासन से भी अपेक्षा है। इस अपेक्षा पर पुलिस प्रशासन और जिला प्रशासन पूरी तरह खड़ी उतर रही है। लेकिन इसी बीच खेद जनक स्थिति तब उत्पन्न हो जाती है, जब जिला प्रशासन ने अपने द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के आधार पर न्यूज़ पोर्टल पर दी गई खबर पर त्वरित सक्रियता दिखाते हुए मुकदमा कर दिया, जबकि यहाँ जिला प्रशासन सकारात्मक रवैया अपनाते हुए खंडन अथवा अपनी भाषा मे खबर प्रकाशित करवा सकती थी। लेकिन खबर को भयावह बनाकर मुकदमा का रास्ता अपनाया गया जो संवेदन शून्यता को परिलक्षित करता है।

- Advertisement -

वही दूसरी तरफ एक घटना और घटित हुई जिसमें सहायक खजांची थाना का एक दरोगा चार अलग अलग समूहों के वरिष्ठ पत्रकारों को ना केवल अपने डंडे का शिकार बनाया गया, बल्कि उनके साथ दुर्व्यवहार की पराकाष्ठा पार कर दी। इन दोनों मुद्दों पर संघ गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन एवं पूर्णिया प्रशासन से आग्रह करता है कि ऐसी विकट परिस्थिति में पत्रकारों के साथ सहयोगात्मक रवैया ही रखें, अन्यथा पत्रकार और प्रशासन के बीच दूरी बन जाएगी, जो शायद उचित नहीं होगा।

अतः प्रमंडलीय पत्रकार संघ आग्रह करता है कि पत्रकार पर किए गए मुकदमे को वापस ले एवं दोषी सहायक खजांची थाना के एएसआई मोहम्मद मन्नान खान को निलंबित करते हुए उसपर उचित कानूनी कार्रवाई करें। पूर्णिया प्रमंडल पत्रकार संघ महसूस करता है कि पूर्णिया पुलिस कप्तान विशाल शर्मा एवं जिला पदाधिकारी राहुल कुमार युवा होने के साथ साथ संवेदनशील एवं कर्मठ अधिकारी है, ऐसी स्थिति में इन अधिकारीयो के रहते हुए पत्रकारों के साथ दुर्व्यवहार की उम्मीद नहीं है।

संघ को भरोसा है कि वे पत्रकारों एवं प्रमंडलीय पत्रकार संघ के भावनाओं को समझेंगे। साथ ही बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से यह भी अनुरोध किया गया है कि जिस प्रकार सूबे के डॉक्टर, स्वास्थ्यकर्मी, पुलिसकर्मी के लिए बीमा की घोषणा की गई , उसी प्रकार पत्रकारों को भी करोना जैसे महामारी के दौरान की जा रही पत्रकारिता में सभी पत्रकारों का 50 लाख का बीमा कराया जाए।

इस मौके पर जिले के 2 पत्रकार विकास वर्मा एवं विनीत राज को बीमार महिला को सहायता पहुँचाने और अपने मानव कर्तव्य का परिचय देने के लिए 500-500 रुपये और कलम, मिठाई देकर सम्मानित भी किया गया।

प्रफुल्ल कुमार सिंह
कोशी की आस@पूर्णियाँ

- Advertisement -