पूर्णियाँ : वैदिक मंत्रोचारण के साथ एक महिना तक चलने वाले श्रावणी मेला का पर्यटन मंत्री ने किया शुभारंभ।

0
432
- Advertisement -

सुनील कुमार सम्राट

वैदिक मंत्रोचारण के साथ जिले के बनमनखी अनुमंडल अंतर्गत काझी हृदयनगर पंचायत के  “धिमेश्वर धाम स्थित बाबा उग्रेशनाथ मंदिर परिसर” में राजकीय स्तर पर दूसरी बार आयोजित हुए श्रावणी महोत्सव मेले 2019 का शानदार आगाज रविवार को किया गया। अनुमंडल प्रशासन द्वारा आयोजित इस राजकीय श्रावणी महोत्सव मेले का उद्घाटन रविवार की संध्या बिहार सरकार के पर्यटन मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि, गन्ना एवं उद्योग विकास मंत्री बीमा भारती, जिला परिषद् की अध्यक्षा क्रांति देवी, अनुमंडल पदाधिकारी राकेश कुमार, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी बिभाष कुमार, नगर पंचायत के मुख्य पार्षद विजय साह, भवानीपुर के प्रखंड प्रमुख अबधेश मंडल, बनमनखी के उप प्रमुख नवल किशोर यादव, जिला परिषद् हेमलाता कुमारी, मुखिया विलास राम  ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वल्लित कर एवं फीता काट कर किया। मौके पर उपस्थित शिव भक्तों को संबोधित करते हुए पर्यटन मंत्री श्री ऋषि ने कहा कि पिछले वर्ष श्रावणी मोहत्सव मेला के उद्घाटन में हमारे साथ एक विधायक जी थे। इस बार हमारे साथ बगल की एक मंत्री जी हैं। हमें लगता है कि आने वाले समय में मुख्यमंत्री जी भी आयेंगे। उन्होंने कहा कि कभी पूर्णियां काला पानी की सजा देने वाले स्थल के नाम से जाना जाता था। आज वही पूर्णियां दिन-व-दिन निखरते जा रहा है और यह सब भोले नाथ की कृपा से हीं संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि गन्ना मंत्री बीमा भारती के सहयोग से हमने पूर्णियां का पूरण देवी, धमदाहा का बहेलिया स्थान, माता स्थान, बड़हरा का वरुनेश्वर स्थान, बनमनखी का धीमेश्वर स्थान, भक्त प्रह्लाद मंदिर, टिकापट्टी के गाँधी आश्रम को पर्यटक रोड मेप में शामिल किया गया है, जिसे अलग-अलग सर्किट में जोड़ कर इस क्षेत्र को धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि पहले इस क्षेत्र के पर्यटक बाहर घुमने जाते थे लेकिन वह दिन दूर नहीं, जब बाहर के पर्यटक हमारे क्षेत्र में घुमने आयेंगे। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार ने पूर्णियां जिला को दो-दो मत्री दिया हैं। इसलिए हम लोग पूर्णियां सहित पुरे कोसी सिमांचल को विकसित करने को लेकर हमेशा चिंतित रहते है। उन्होंने कहा की मुजफ्फरपुर से लेकर पूर्णियां तक फॉर लेन है। बनमनखी-रुपौली के दोनों साईड भी फॉर लेन है।इसी के बिच एक स्टेट हाईवे बनायेंगे जो रुपोली, धमदाहा, बनमनखी होते हुए से सीधा वीरनगर से जुड़ जाये। इसका हमलोगों ने मिलकर मंजूरी भी करावा लिया है। इससे दोनों क्षेत्र का सीमांकन मिल जायेगा और इस क्षेत्र का कायाकल्प हो जायेगा।

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि बनमनखी धीरे-धीरे एक नए मानचित्र की और बढ़ रहा है। इसके लिए मुझे जो भी करने पड़े मैं करूँगा।उन्होंने कहा कि पुरे बिहार में सबसे बड़ा मेला सोनपुर में लगता है, जहाँ रामायण कंडों का मंचन होता है, मैं प्रयास करूँगा कि बनमनखी में भी इसका शुरुआत हो और वह धीमेश्वर धाम से हो। सोनपुर मेला के तर्ज पर बनमनखी के धीमेश्वर में फ़रवरी माह में आयोजित होने वाले महा-शिवरात्री में इसका आगाज किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले श्रधालुओं व पर्यटकों को किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए बनमनखी अनुमंडल की तमाम पौराणिक मंदिरों को एक साथ पक्की सड़क से जोड़ा जायेगा, जिसकी रुपरेखा तैयार कर उक्त योजना को शीघ्र ही प्रारंभ कर दी जाएगी।जानकारी देते हुए मंत्री श्री ऋषि ने कहा कि अथक प्रयास के बाद राज्य मेला प्राधिकरण के माध्यम से बनमनखी में आयोजित हो रहे श्रावणी महोत्सव का मैंने तो केवल नींव डाला है। इस मंदिर का विकास सरकार के स्तर से किया जायेगा। इससे न केवल मंदिर का समुचित विकास होगा बल्कि इस क्षेत्र के आम- अवाम सामाजिक व आर्थिक रूप से सबल होंगे और यह हम सब के परस्पर सहयोग के बिना संभव नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि पुरे एक माह तक चलने वाले इस श्रावणी महोत्सव में हम सभी को बढ़ चढ़ कर मेला आयोजक अनुमंडल प्रशासन का सहयोग करते हुए बाहर से आने वाले कंवरिया शिव भक्त श्रद्धालुओं की सेवा व सहयोग करना होगा। इससे आने वाले दिनों में जिस तरह देवघर का विकास हुआ उसी तरह काझी के धिमेश्वर मंदिर का भी विकास होगा। भविष्य में यहाँ देवघर के तरह हीं भव्य श्रावणी मेला का आयोजन होगा। अंत में उन्होंने कहा कि बनमनखी देव भूमि की धरती है, यहाँ जो भी सच्चे ह्रदय से कुछ माँगाता है उसकी हर मनोकामना पूर्ण होती है। उपस्थित शिव भक्तों को मंत्री ने श्रावण मास की बधाई भी दिया।

कार्यक्रम में उपस्थित शिव भक्तो को संबोधित करते हुए गन्ना मंत्री बीमा भारती ने कहा कि जब मुझे गन्ना विभाग का पदभार मिला तो सबसे पहले मुझे बनमनखी के बंद परे चीन मिल की याद आई। मैंने अपने पहले बैठक में हीं बनमनखी के बंद चीनी मिल की जानकारी अधिकारीयों से ली। तत्पशाच्त बंद चीनी मिल को पुनः चालू कराने के दिशा में मुख्यमंत्री जी से भी बात की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी के दिशा निर्देश पर चीनी मिल की जमीन को बियाडा को दिया गया है। जहाँ छोटा-छोटा उद्योग लगाने की बात चल रही है। इस दिशा में पहल की जा रही है। यदि बात बन गया तो इस क्षेत्र के लोगों को रोजगार मिलेगा, जिससे क्षेत्र का विकास होगा। उन्होंने कहा कि बनमनखी के चीनी मिल की सुरक्षा को लेकर शीघ्र ही गार्ड की प्रतिनियुक्ति की जाएगी, ताकि शेष पार्ट की चोरी न हो सके। मौके पर जिला परिषद् के अध्यक्ष क्रांति देवी ने भी मंदिर परिसर के कुआं एवं पोखर को मनरेगा से सफाई कराने की सुझाव दिया।

धन्यवाद ज्ञापन करते हुए अनुमंडल पदाधिकारी राकेश कुमार ने कहा कि राजस्व एवं भूमि सुधर विभाग बिहार सरकार के सौजन्य से श्रावणी मेला 2019 का आयोजन बाबा धीमेश्वर नाथ मंदिर धीमा बनमनखी में हर्सोल्लास के साथ किया जा रहा है। उन्होंने स्थानीय लोगों से एक माह तक चलने वाले इस मेला में सहयोग करने की अपील किया। मंच संचालन बनमनखी नगर पंचायत के मुख्य पार्षद विजय साह ने किया, जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता मेला कमिटी के अध्यक्ष कमलेश्वरी प्रसाद सिंह ने की।

इस अवसर पर अनुमंडल पदाधिकारी राकेश कुमार, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी विभास कुमार, प्रखंड विकास पदाधिकारी किशोर कुणाल, नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी अमित कुमार, मंदिर कमिटी के अध्यक्ष कमलेश्वरी प्रसाद सिंह, थाना अध्यक्ष अरविन्द कुमार, भाजपा के ग्रामीण मंडल अध्यक्ष दिलीप झा, नगर मंडल अध्यक्ष संतोष चौरसिया, रंजित गुप्ता,पार्षद नितेश जयसवाल, मुकेश पांडेय,लाल बिहारी यादव, मुखिया बिलास राम, सत्य प्रकाश यादव,प्रदीप कुमार मेहता, राकेश कुमार, अजय सिंह, सीओ अर्जुन विशवास, नवनीत सिंह, लाल बाबा, वीर नारायण गुप्ता, अमितेश सिंह, कंचन सिंह, बिपेंद्र साह आदि मौजूद थे।

- Advertisement -