तेजस्वी पर टिकट के बदले 50 लाख मांगने का आरोप लगाने वाले RJD के पूर्व प्रदेश सचिव की हत्या का शक

0
334
- Advertisement -

 

- Advertisement -

बिहार में विधानसभा चुनाव के बिगूल के साथ ही चुनाव में होने वाले ख़ूनी संघर्ष के लिए बदनाम बिहार में एक बार फिर से ख़ूनी संघर्ष का खेल शुरू हो गया। और उसी क्रम में आज तड़के सुबह RJD के पूर्व प्रदेश सचिव और विधानसभा चुनाव में अपनी दावेदारी करने वाले शक्ति मलिक की हत्या कर दी गई। शक्ति मलिक की हत्या के बाद बिहार का चुनावी माहौल और भी गर्म हो गया है।

RJD के पूर्व प्रदेश सचिव ने तेजस्वी पर लगाया था टिकट के बदले 50 लाख मांगने का आरोप

आपको बता दें कि बीते कुछ दिन पहले ही शक्ति मलिक ने एक न्यूज़ चैनल से बातचीत के दौरान RJD के मुख्यमंत्री उम्मीदवार और लालू प्रसाद के छोटे बेटे तेजस्वी यादव पर विधानसभा के टिकट देने के बदले 50 लाख रुपये मांगने और जातिगत टिप्पणी करने का आरोप लगाते हुए एक वीडियो जारी किया था।

RJD के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति मलिक की रविवार सुबह 3 बजे की गोली मारकर हत्या कर देने के बारे में बताया जा रहा है। स्थानीय लोगों के अनुसार नकाबपोश बदमाश शक्ति मलिक के घर में घुसे और ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद हमलावर मौके से फरार हो गए। शक्ति मलिक को अस्पताल ले जाया गया, जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

हत्या में परिवार का तेजस्वी यादव पर आरोप

शक्ति मलिक की हत्या के मामले में शक्ति मलिक की पत्नी और परिजनों द्वारा नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, अनिल साधु पर हत्या का आरोप लगाया गया है। इसके अलावा राजनैतिक द्वेष में हत्या का शक जताते हुए अररिया के राजद नेता कालो पासवान और सुनीता देवी का नाम भी परिवार वालों के द्वारा लिया गया है।

RJD अनुसूचित जाति / जनजाति प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव रहे चुके थे शक्ति मलिक

बता दें कि शक्ति मलिक RJD अनुसूचित जाति / जनजाति प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव थे और विधानसभा चुनाव में रानीगंज विधानसभा से राजद के टिकट पर चुनाव लड़ना चाह रहे थे। लेकिन हाल ही में मीडिया में दिए अपने बयान में शक्ति मलिक ने तेजस्वी यादव पर आरोप लगाते हुए कहा था कि जब वह एससी/एसटी प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव थे तब रानीगंज विधानसभा से राजद के टिकट पर चुनाव लड़ने की बात करने तेजस्वी के पास गए थे, तब तेजस्वी यादव ने उनसे 50 लाख रुपये की मांग की और मना करने पर जाति सूचक टिप्पणी कर भगा दिया।

घटना की सूचना मिलते ही सदर एसडीपीओ आनन्द कुमार पांडेय सदर अस्पताल पहुंचे। उन्होंने शक्ति के परिजन से बात किया। बातचीत के दौरान परिजनों ने घटना के संबंध में सीधे तौर पर तेजस्वी यादव और अनिल साधु का नाम लिया है। परिजनों का आरोप है कि शक्ति को जान से मारने की धमकी दी जा रही थी।

स्पेशल डेस्क
कोशी की आस@पटना

- Advertisement -