धूमधाम से मनाई जा रही चित्रगुप्त पूजा

0
1002
- Advertisement -

भगवान चित्रगुप्त की पूजा आज दिनांक यानी मंगलवार को शहर के विभिन्न क्षेत्रों में पूरे धूमधाम के साथ मनाई जा रही है। चित्रगुप्त पूजा के मौके पर मैथेमैटिक्स गुरू फेम आरके श्रीवास्तव ने भी चित्रगुप्त भगवान की सामूहिक परिवारिक पूजन किया, जिसमें लोगों ने एक साथ बैठकर भगवान चित्रगुप्त की विशेष पूजा-अर्चना की। इस मौके पर प्रसाद वितरण एवं भाई भोज का आयोजन भी आरके श्रीवास्तव के द्वारा किया गया।
ऐसी मान्यता है कि चित्रगुप्त पूजा के दिन कायस्थ समाज के लोग कलम दवात की पूजा करते हैं। इसलिए इस दिन कायस्थ समाज के लोग कलम नहीं छूते हैं।

- Advertisement -

कायस्थों के लिए क्यों खास है चित्रगुप्त पूजा—-

भाई दूज के दिन चित्रगुप्त महाराज की पूजा होती है और इसी दिन कारोबारी और स्टूडेंट्स कलम-दवात की भी पूजा करते हैं। दिवाली (Diwali 2019) के तीसरे दिन यानी कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीया को जहाँ देशभर में भाई दूज (भैया दूज) (Bhaiya Dooj, Bhai Dooj) का पर्व मनाया जाता है, वहीं कायस्थ (Kayastha) समाज के देवता माने जाने वाले चित्रगुप्त महाराज (Chitragupta Maharaj) की भी पूजा का विधान है। यम द्वितीया को मनाया जाने वाला यह पर्व कलम-दवात की पूजा के नाम से भी प्रचलित है। चित्रगुप्त महाराज को देवगण का लेखापाल यानी मनुष्यों के पाप-पुण्य का लेखा-जोखा रखने वाला माना गया है। इस दिन नई लेखनी या कलम की पूजा होती है। व्यापारी या कारोबारी वर्ग इसे नववर्ष प्रारंभ के तौर पर भी देखते हैं।

मान्यता है कि इस दिन कायस्थ समाज का हर सदस्य कलम से कागज पर अपनी सालाना आय लिखकर, एक मंत्र के साथ वो कागज चित्रगुप्त महाराज के पास रख देता है। उसके बाद पूरी पूजा विधि अपनाई जाती है और आरती व विशेष प्रसाद (Chitragupta Puja charnamrit) के साथ यह चित्रगुप्त पूजा संपन्न होती है।

- Advertisement -