अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस पर जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्र पर स्वास्थ्य शिविर का आयोजन

0
263
- Advertisement -

सहरसा जिले के सदर अस्पताल समेत सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस का आयोजन किया गया। इस मौके पर बुजुर्गों के लिए विशेष स्वास्थ्य जांच के साथ उनको इस उम्र मे होने वाली बीमारी के बारे मे भी जागरूक किया जा रहा है।

सिविल सर्जन डाक्टर अवधेश कुमार ने बताया जिस तरह से अभी देशवासी कोरोनावायरस बीमारी से जूझ रहे हैं तो इस समय बुजुर्गों की अधिक देखभाल की जरूरत है. जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है शरीर में रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर होने लगती है. इसी वजह से बढ़ती उम्र में कई बीमारियां भी घेर लेती हैं इसी के बचाव तथा जागरूकता के उदेश्य से अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस मनाया जाता है।

- Advertisement -

बुजुर्गों के बढ़ते उम्र के साथ ही उनके स्वास्थ्य का रखे विशेष खयाल –

सिविल सर्जन डॉ. अवधेश कुमार ने कहा बढ़ती उम्र के साथ ही बुजुर्गों के शरीर में अनेक प्रकार की बीमारियां होने का खतरा होता है। जैसे कि बुजुर्गों में उच्च रक्तचाप, डायबिटीज की समस्या, हाई ब्लड प्रेशर की समस्या, डिप्रेशन की समस्या, पार्किंसंस, मनोरोग, अल्जाइमर, शारीरिक स्थिति का बिगड़ना आदि सामान्य रूप से बीमारी होने शुरू हो जाते हैं. इससे बचने के लिए बुजुर्गों को नियमित जांच करवाने के साथ ही व्यायाम और योग आदि भी करते रहना चाहिए. वृद्ध दिवस पर विशेष शिविर लगाकर बुजुर्गों को इन सभी बीमारी के बारे मे भी जानकारी दी जाती है तथा उनके स्वास्थ्य की भी विशेष रूप से जांच की जाती है। जांच के उपरान्त बुजुर्गों तथा उनके परिजनों को स्वास्थ्य संबन्धित जानकारी दी जाती है ताकि उनके परिजन बुजुर्गों का ध्यान रखे।

अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस की सफ़लता के लिए स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा लोगों को किया जा रहा है जागरूक –

आइडीएसपी के कुमार प्रणव ने बताया कार्यक्रम की शत-प्रतिशत सफ़लता के लिए पत्र के माध्यम से ज़िले के सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी कर कहा गया हैं कि गांव के हर गली में इसकी सूचना या जानकारी देने के लिए अपने स्तर से प्रखंड सामुदायिक उत्प्रेरक, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक, अस्पताल प्रबंधक एवं स्वास्थ्य कर्मियों सहित आशा कार्यकर्ताओं को प्रचार-प्रसार के लिए लगाया जाए ताकि जन-जन को इसका लाभ मिले सके साथ ही बनैर तथा पोस्टर के माध्यम से जागरूक किया जा रहा है।

युगेश्वर कुमार
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -