दहेज के लिए नवविवाहिता को गला दबाकर उतारा मौत के घाट, पुलिस कर रही जांच

0
95
- Advertisement -

सहरसा – दहेज के लोभी द्वारा फिर एक नवविवाहिता की जान ले ली गई। रविवार की देर रात सदर थाना क्षेत्र के शाहपुर, पश्चिम टोला, वार्ड नंबर 4 में नवविवाहिता सीमा (काल्पनिक नाम) की गला दबाकर हत्या कर दी गई। उनकी शादी बीते 24 जून को ही हुई थी, जिसमें उनके पिता ने 7 लाख रुपए नकद दहेज दिया था। साथ ही डेढ़ लाख रुपए की अपाचे बाइक के साथ एक लाख रुपए के जेवरात भी दिए गए थे।

बताया जा रहा है कि उनके ससुर कमलेश शर्मा (काल्पनिक नाम) और पति चंदन शर्मा (काल्पनिक नाम) को एक तीन भरी का सोने का लॉकेट और 50 हजार नकद की डिमांड दी थी। ऐसे में पहली बार बेटी से मिलने पहुंचे कमल शर्मा (काल्पनिक नाम) से उक्त मांग फिर रखी गई। जिसे देने में असमर्थता दिखाने पर देर रात उनकी गला दबाकर हत्या कर दी गई।

- Advertisement -

दुखद बात यह है कि रविवार को ही सीमा (काल्पनिक नाम) के पिता पहली बार उनकी शादी के बाद सीमा (काल्पनिक नाम) से मिलने पहुंचे थे। देर रात वे भी सीमा (काल्पनिक नाम) के ही ससुराल में रुके थे। लेकिन उनके ससुराल वाले ने सीमा (काल्पनिक नाम) से उनकी मुलाकात नहीं होने दी। सुबह भी जब सीमा (काल्पनिक नाम) के पिता उनसे मिलने की गुहार लगाई। तो उनके दामाद ने सीमा (काल्पनिक नाम) की देर रात तबीयत खराब होने दुहाई देकर मिलने नहीं दिया। ऐसे में वे वापस सुपौल जिले के त्रिवेणीगंज की ओर निकल गए। लेकिन सुपौल पहुंचते ही उन्हें फिर सीमा (काल्पनिक नाम) के ससुराल से फोन आया कि सीमा (काल्पनिक नाम) की मौत हो गई है।

वे उल्टे पांव वापस सीमा (काल्पनिक नाम) के ससुराल आए। जहां सीमा (काल्पनिक नाम) के देर रात बीमार होने और सुबह में दम तोड़ने की झूठी कहानी कही गई। इस दौरान सीमा (काल्पनिक नाम) के पिता ने अपने सगे संबंधियों को मोबाईल पर बुलवाया। जब कई सगे संबंधी इकट्ठे हुए तो सीमा (काल्पनिक नाम) के शव को देखा गया। जहां उनके गले पर निशान देखते ही सभी उनकी हत्या कर देने की बातें करने लगे।

इस दौरान हत्या की बात छुपाने का भी बहुत प्रयास किया गया। लेकिन सीमा (काल्पनिक नाम) के पिता ने इसकी सूचना सदर थाना को दी। मौके पर सदर थानाध्यक्ष सह प्रशिक्षु डीएसपी निशिकांत भारती, अपर थानाध्यक्ष राजमणि पुलिस बल के साथ पहुंचे। जिन्होंने लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया। वहीं उनके परिजनों से आवेदन लेकर हत्या का मामला दर्ज करने की प्रक्रिया की जा रही थी।

रितेश : हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -