दया, करुणा और प्रेम के मुख्य स्तंभों पर आधारित होता है डॉक्टरी प्रोफेशन:- रौशन राज बादशाह

0
561
- Advertisement -

 

डॉक्टर्स-डे (1 जुलाई) के अवसर पर सभी चिकित्सकों को शुभकामनाएं देते हुए भाजपा नेता रौशन राज बादशाह ने कहा कि मरीजों के लिए डॉक्टर भगवान का ही दूसरा रूप है। चिकित्सक मरीजों के प्रति सेवा और समर्पण का भाव रखते हुए आवश्यक उपचार कर उनको नया जीवन देते हैं। उन्होंने कहा कि सीमित संसाधनों के बावजूद राजकीय सेवा से जुड़े कई डॉक्टर आज भी अपने कर्तव्य को ईमानदारी के साथ पूरा कर रहे हैं। डॉक्टर के प्रति मरीजों का विश्वास बनाए रखने की जिम्मेदारी सभी डॉक्टरों की है। उन्होंने डॉक्टर्स-डे के दिन डॉक्टर्स को अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को समझकर पैसा कमाने के बजाय मानव सेवा का पेशा बनाने पर चिंतन करने पर बल दिया।

- Advertisement -

बादशाह ने अपने संदेश में कहा कि डॉक्टर लोगों के स्वास्थ्य की भलाई के लिए जो काम करते हैं, वह एक महान कर्तव्य का निर्वहन है। भौतिकता के इस दौर में डॉक्टरों को भी आमजन में अपनी प्रतिष्ठा बनाए रखनी चाहिए, क्योंकि डॉक्टर को भगवान का रूप माना जाता है।


बादशाह ने कहा कि पिछले कुछ समय से प्रदेश में चिकित्सा व्यवस्था में सुधार आया है। हमारे यहां की बेहतरीन चिकित्सा व्यवस्था के चलते अन्य जगहों से मरीज आ रहे हैं। राज्य के डॉक्टरों ने कड़ी मेहनत से चिकित्सा क्षेत्र में प्रदेश का नाम रोशन किया है।

“कोशी की आस” टीम सभी लोगों से विनम्र निवेदन करती है कि आज सिर्फ डॉक्टर्स डे के दिन ही डॉक्टरों के प्रति हम सम्मानजनक बातें न करें बल्कि प्रति दिन हमें डॉक्टरों के कर्तव्य का सम्मान करना चाहिए। इसमें कोई संदेह नहीं कि डॉक्टर को भगवान का दूसरा रूप माना जाता है लेकन साथ ही डॉक्टरों को भी अपनी सामाजिक जिम्मेारियों का निर्वहन करना चाहिए न कि इसे पेशा समझकर मानव मूल्यों को ताक पर रखकर इसे आमदनी का जरिया बनाना चाहिए।

- Advertisement -