IIT JEE/NEET में प्रवेश के लिए कोटा जाने की जरूरत नहीं, सहरसा में UNIPATH उपलब्ध कराएगा कोटा जैसा विकल्प

0
385
- Advertisement -

सहरसा: कोशी क्षेत्र के ऐसे छात्र-छात्रा जो डॉक्टर और इंजीनियर बनने का सपना देख रहे हैं उनके लिए अपने सपनों को साकार करना आसान हो गया है। और उन सामान्य आय वाले परिवार से आने वाले बच्चों के सपनों में पंख लगाने का बीड़ा उठाया है, विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों से शिक्षा ग्रहण कर कोटा, दिल्ली और अन्य शहरों के प्रतिष्ठित IIT JEE/NEET की तैयारी कराने वाले कोचिंग संस्थानों में अपनी सेवा दे चुके क्षेत्र के चार युवाओं ने।

- Advertisement -

क्या कहते हैं UNIPATH के शिक्षक ओम सौरभ?

UNIPATH, IIT JEE/NEET कोचिंग संस्थान के शिक्षक, पटना साइंस कॉलेज से जीवविज्ञान में स्नातक और परास्नातक करने के बाद विभिन्न IIT JEE/NEET कोचिंग संस्थान के साथ-साथ आकाश जैसे संस्थान में कई वर्षों तक पढ़ा चुके जीवविज्ञान के प्रतिभावान शिक्षक ओम सौरभ ने कोशी की आस के साथ बातचीत में बताया कि काफ़ी समय से इस क्षेत्र में कोटा और दिल्ली जैसे IIT JEE/NEET की तैयारी कराने वाले कोचिंग संस्थानों की आवश्यकता महसूस की जा रही थी। साथ ही वर्तमान वैश्विक महामारी ने उस जरूरत को अतिआवश्यक बना दिया। सबसे पहले तो बहुत सारे सामान्य आय वाले परिवार से आने वाले बच्चे आर्थिक कारणों से कोटा और दिल्ली जा नहीं पाते और बढ़ते प्रतियोगिता के दौर में उनका सपना अधूरा रह जाता था और वर्तमान वैश्विक महामारी के कारण आर्थिक रूप से संपन्न परिवार भी अपने बच्चों को अभी कोटा और दिल्ली आदि जगहों पर नहीं भेजना चाहते हैं।

उन्होंने आगे कहा कि इसलिए हमलोगों ने कोशी क्षेत्र के तामाम छात्र-छात्राओं को अपने सपने जीने का एक विकल्प देने का प्रयास किया है। हमारे UNIPATH, IIT JEE/NEET कोचिंग संस्थान के सभी शिक्षक न सिर्फ़ आईआईटी, एनआईटी और साइंस कॉलेज, पटना जैसे संस्थानों से पढ़े हैं बल्कि आकाश, नारायणा और मोशन जैसे IIT JEE/NEET कोचिंग संस्थान के विभिन्न केंद्रों में 4 से 6 वर्षों तक पढ़ाने का अनुभव भी है।

स्थानीय विधायक ने किया उद्घाटन

UNIPATH, IIT JEE/NEET कोचिंग संस्थान का उद्घाटन आज दिनांक 13/12/20 को सहरसा के स्थानीय भाजपा विधायक डॉ आलोक रंजन झा द्वारा किया गया। इस अवसर पर स्थानीय विधायक ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह कोचिंग संस्थान कोशी क्षेत्र के तमाम ऐसे बच्चे जो डॉक्टर और इंजीनियर बनने का सपना देख रहे हैं उनके लिए योग्य और अनुभवी शिक्षकों के रूप में एक विकल्प देगा। बच्चे अच्छे से पढ़े और अपने सफलता से अपने माता-पिता, परिवार-समाज और क्षेत्र का नाम रौशन करे।

मौके पर सैकड़ों की संख्या में छात्र-छात्रा, अभिभावक, शिक्षकगण, स्थानीय जनप्रतिनिधि, समाजसेवी और गणमान्य लोग मौजूद थे।

स्पेशल डेस्क
कोशी की आस@सहरसा

 

 

 

- Advertisement -