जब रात के अंधेरे में

0
368
- Advertisement -

राहुल
कोसी की आस@सहरसा।

जब रात के अंधेरे में
आंखे नम हो जाती है,
तब प्यार का एहसास
करते सुबह हो जाती है।

- Advertisement -

जब रात के अंधेरे में
मुकम्मल चाँद निकल आता है,
तब प्यार की रौशनी से
आंखे भिगो जाती है।

जब रात के अंधेरे में
सारा जग सो जाता है,
तब यादे ऐसी आती
पूरी राते यू कट जाती।

जब रात के अंधेरे में
प्यार भरी बारिश हो जाती है,
तब मौसम की अद्भुत रुप
ना सोने देती ना जगने देती है।

जब रात के अंधेरे में
कोहरा लगा-सा रहता है,
तब रजाई के अंदर
प्यार भी कोहराम मचा देती है।

जब रात के अंधेरे में
कोयलया गाती है,
तब प्यार की गीत
दिल को छू जाती है।

- Advertisement -