लॉक डाउन के दौरान मेडिकल स्टोर में खुलेआम बिक रही थी कॉरेक्स, कारोबारी सहित दो अन्य पुलिस की गिरफ्त में।

0
119
- Advertisement -

रितेश : हन्नी

कोशी की आस@ सहरसा

- Advertisement -

बिहार के सभी जिलों में सरकार के आदेशानुसार लॉक डाउन लागु है। ताजा मामला बिहार के सहरसा से है, जहाँ लॉक डाउन के दौरान शहर के विभिन्न हिस्सों में सदर एसडीपीओ प्रभाकर तिवारी के नेतृत्व में सदर थानाध्यक्ष आर० के० सिंह टीम के साथ फ्लेग-मार्च कर रही पुलिस टीम, शहर के पुरब बाजार स्थित आमना मेडिकल पर लगे भीड़ को देख रुकी। रुकी पुलिस टीम को देखते ही भीड़ सहित दुकानदार निकल कर भागना चाहा। भागने के क्रम में भाग रहे युवक को पुलिस ने दबोचा तो युवक के हाथ में नशा के रूप में सेवन करने वाला कफ सिरफ पाया गया।

सदर एसडीपीओ ने ततत्क्षण उक्त दुकान में छापेमारी का आदेश दिया। छापेमारी के दौरान पुलिस को भारी मात्रा में नशा के रूप में सेवन करने वाला प्रतिबंधित कफ सिरफ एवं प्रतिबंधित टेबलेट सहित तीन लोगों (कारोबारी मो० वशी अख्तर उर्फ टिंकू, हरिओम एवं मो० मिकाइल) को हिरासत में लिया गया। दवा की जांच हेतु ड्रग इंस्पेक्टर पंकज सुमन एवं जितेंद्र कुमार सदर थाना पहुंच चुके हैं। सरकार ने लॉक डॉन के दौरान मेडिकल दुकान खोलने की आजादी दे रखी है। इस आर में दुकानदार नशीली दवा बेचने में मशगूल हैं। सदर एसडीपीओ श्री तिवारी ने कहा कि सहरसा लॉक डाउन में आज सदर थाना ने लोगों के खिलाफ कारवाई की है। जिसमें एक प्राथमिकी दर्ज कर तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। लॉक डाउन को ना मानने 32 बाईक, 8 चार चक्का, 5 टैम्पू चालक के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करते हुए बासठ हजार एक सौ रुपये फ़ाईन स्वरूप वसुल किया गया। गिरफ्त में आये लोगों के खिलाफ पुलिस अग्रतर कार्रवाई करने में जुटी है।

- Advertisement -