कोरोना संकट के दौरान प्रत्येक दिन लगभग 200 लोगों को भोजन देकर “पावर ऑफ यूथ” कर रहा अपने सामाजिक दायित्यों का निर्वहन

0
108
- Advertisement -

निखिल झा
कोशी की आस@सहरसा

समूचा देश कोरोना जैसे भयंकर महामारी के संकट से जूझ रहा है और उससे बचाव हेतु भारत सरकार ने पूरे देश में लॉक डाउन लगा दिया है। इस दौरान सबसे बड़ी आफ़त उन गरीब, असहाय, मजबूर और मजदूर की हो गई है जो दिहाड़ी करते हैं और उससे मिलने वाले मेहनताने से उनके तथा उनके परिवार का भरण पोषण होता है।

- Advertisement -

लेकिन लॉक डाउन की वजह से उन्हें काम मिलना बंद हो गया है और जब काम मिलना बंद हो गया तो मेहनताना भी बंद। ऐसे में उन परिवार की सबसे बड़ी चुनौती भूख मिटाने की हो गई है। यूँ तो सरकार के द्वारा भी इस संबंध में कदम उठाया गया है लेकिन भारतीय आबादी के सामने यह काफी कम है।

सरकारी मदद के आलावे इस संकट की घड़ी में उन गरीब परिवार की मदद को कई सामाजिक संगठन भी सामने आए हैं। उसी कड़ी में सहरसा में आये दिन सामाजिक कार्यों में अग्रणी भूमिका निभाने वाले संगठन “पावर ऑफ यूथ” द्वारा आज से एक सप्ताह तक रोज लगभग 200 गरीब लोगों को भोजन मुहैया कराने का व्यवस्था किया गया है।

भोजन वितरण प्रशासनिक अधिकारियों के माध्यम से किये जाने की व्यवस्था है। आज के भोजन वितरण के मौके पर एसडीओ शैलेन्द्र कुमार , सिविल सर्जन सहरसा डॉ रवि, एसडीएम सहरसा के आलावे पूर्व विधायक डॉ आलोक रंजन, बीजेपी जिला अध्यक्ष दिवाकर सिंह, समाजसेवी आदरणीय सुधाकर सिंह, Power Of Youth के अध्यक्ष सुमित सिन्हा, सदस्य अभिजीत सिन्हा, सदस्य छोटू मौजूद थे।

- Advertisement -