रेल टिकट के गोरखधंधा में शामिल एजेंट के पकड़ाने के बाद भी गोरखधंधा बदस्तूर जारी

0
56
- Advertisement -

सहरसा : वैश्विक संकट करोना संक्रमण काल में भी अवैध टिकट कालाबाजारी का धंधा जोरों पर है। कुछ ऐसा ही मामला सहरसा जंक्शन पर देखने को मिला। सहरसा से नई दिल्ली जाने वाली वैशाली एक्सप्रेस के सामान्य टिकट को आरक्षित टिकट के नाम पर तीन ग्रामीण यात्रियों से एजेंट ने 1065 की जगह 5600 रुपए वसूल किए गए। बदले में यात्रियों को एक ही पीएनआर पर तीन टिकट जारी कर वेटिंग काउंटर टिकट थमा दिया।

मामला प्रकाश में तब आया जब तीनों यात्री ट्रेन पकड़ने प्लेटफार्म पर पहुंचे और चेकिंग के दौरान वेटिंग काउंटर टिकट पकड़ा गया। टीटी ने तुरंत इसकी सूचना आरपीएफ को दी। आरपीएफ इंस्पेक्टर सारनाथ, एस आई श्रीनिवास कुमार, कॉन्स्टेबल रमेश कुमार सिंह की टीम मौके पर पहुंचकर जब तीनों यात्रियों से पूछताछ की, तो एजेंट के नाम का खुलासा हुआ। तीनों यात्रियों ने एजेंट के विरुद्ध आरपीएफ को आवेदन दिया कि तीन समान श्रेणी के आरक्षित टिकट के बदले 1065 की जगह 5600 रुपए वसूले गए और उन्हें काउंटर वेटिंग टिकट थमा दिया गया।

- Advertisement -

आवेदन मिलने के बाद टिकट एजेंट चंदन भगत के विरुद्ध रेल अधिनियम धारा 143 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया। जो आरपीएफ की टीम छापामारी करने पहुंची तो चंदन भगत दुकान बंद कर पहले ही फरार हो गया। आरपीएफ इंस्पेक्टर सारनाथ ने बताया कि तीनों पीड़ित यात्रियों की पहचान राजकुमार महतो, चंदन महतो और विजय महतो के रूप में हुई है। तीनों सौर बाजार थाना के सिलेट गांव, वार्ड नंबर 13 का निवासी है। ठगी के शिकार हुए यात्रियों ने दिए आवेदन में कहा कि प्रशांत सिनेमा रोड में चंदन भगत रेल टिकट एजेंट है। रेलवे आरक्षण केंद्र के नाम से उसकी दुकान है। तीनों ने सहरसा से नई दिल्ली जाने वाली वैशाली एक्सप्रेस में सामान्य श्रेणी का आरक्षण टिकट लिया था। टिकट पर अंकित मूल्य 1065 है। फिहलाल आरोपी की खोजबीन जारी है। शिकायत के बाद तीनों पीड़ितों को छोड़ दिया गया।

रितेश : हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -