सदर एसडीओ को भाजपा युवा मोर्चा ने कोरोना योद्धा के रूप में किया सम्मानित

0
70
- Advertisement -

सहरसा – वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से पूरा देश और दुनियां पिछलें कई महीनों से आफत में है। लगातार देश में कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। सरकार देश में लॉकडाउन-2 लगा चुकी है, जो कि 03 मई तक लगा रहेंगा। उसके बाद देश की मौजूदा तस्वीर को देखतें हुए सरकार आगें के लिए दिशा निर्देश देगें।

ऐसे में नि:स्वार्थ सेवा और दृढ़ निश्चय के साथ विषम परिस्थितियों में अपनी कर्तव्य परायणता और निष्ठा के साथ काम कर रहे हैं। सरकार और प्रशासन लगातार लोगों से अपील कर रहीं है कि कोरोना जैसे वैश्विक महामारी के चैन को तोड़ने के लिए घर में रहना जरूरी है। आप बेवजह घर से बाहर ना निकलें लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। तभी हम कोरोना महामारी से जीत पायेंगे। आप घर पर है और घर के बाहर पूरे देश के आवामों की सुरक्षा कोरोना वारियर्स के रूप में डॉक्टर, नर्स, पुलिसकर्मी, सफाईकर्मी सहित अन्य लोगों के हाथ में होती है। जो अपने घर परिवार से दूर होकर खुद जान को जोखिम में डालकर रात दिन आपकी सुरक्षा में लगें रहतें है। इन्ही कोरोना योद्धाओं को हौसला अफजाई के लिए धन्यवाद ज्ञापन पत्र दे कर सम्मानित करने का कार्य कई दिनों से लगातार चल रहा है।

- Advertisement -

वहीं भाजपा युवा मोर्चा सहरसा के जिला महामंत्री अभिषेक बर्धन ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, भाजपा प्रदेशध्यक्ष डॉक्टर संजय जयसवाल एवं बिहार भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष दुर्गेश सिंह के आह्वान पर कोरोना जैसे वैश्विक महामारी से उत्पन्न हुई इस विकट एवं विषम परिस्थिति में कोरोना योद्धा के रूप में अपने जान की परवाह किये बगैर कार्य का निर्वहन कर रहे पुलिस, डॉक्टर, नर्स, सफाईकर्मी, बैंक कर्मी, पोस्ट ऑफिस के कर्मचारियों को प्रशंसनीय कार्य के लिए धन्यवाद ज्ञापित करने को कहाँ गया। इसी क्रम में आज भाजपा युवा मोर्चा सहरसा के निर्वतमान ज़िला महामंत्री अभिषेक बर्धन, ज़िला मंत्री संतोष गुप्ता, ज़िला उपाध्यक्ष प्रत्यय झा के द्वारा कोरोना योद्धा के रूप में कार्यरत सदर अनुमंडल पदाधिकारी शम्भू नाथ झा को प्रशंसनीय कार्य के लिए धन्यवाद ज्ञापन पत्र एवं चादर देकर सम्मान करने का कार्य किया गया। मौके पर संगठन के कई अन्य कार्यकर्ता भी मौजूद रहे।

रितेश : हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -