सहरसा: अवैध हथियार व कारतुस के साथ संवेदक अमोद चौरसिया गिरफ्तार, एक VIP नम्बर चार चक्का भी जब्त

0
171
- Advertisement -

सहरसा – जिले के सदर थाना पुलिस ने एक वाहन से तीन हथियार बरामद किया। गाड़ी में सतरकटैया प्रखंड के पूर्व प्रमुख के भाई आमोद चौरसिया सहित तीन बाउंसर बैठे हुए थे। पुलिस सभी को पूछताछ हेतु हिरासत में लिया गया। ज्ञात हो कि एसपी राकेश कुमार थाना का निरीक्षण कर बलवाहाट ओपी क्षेत्र से सोमवार की शाम लौट रहे थे। इसी दौरान शहर के डीबी रोड में एक काला शीशा लगे वाहन को देखा। जिसमें बाउंसर और बॉडीगार्ड बैठा देखकर संदिग्ध लगने पर एसपी ने गाड़ी की जांच करने का निर्देश दिया।

पुलिस कप्तान राकेश कुमार के निर्देश पर सोमवार की शाम कोसी निवास होटल समीप गिरफ्तार बिहरा थाना क्षेत्र के पटोरी वार्ड छह निवासी आमोद कुमार के खिलाफ अपना गलत स्थायी व वर्तमान पता देकर रेगुलर आग्नेयास्त्र का अनुज्ञप्ति करना, उस अनुज्ञप्ति पर शस्त्र क्रय करना, अन्य अज्ञात व्यक्तियों से षड्यंत्र कर गलत तरीके से शस्त्र अनुज्ञप्ति प्राप्त करना, उसकी प्रविष्टि अपने राज्य के किसी भी जिला सशस्त्र दंडाधिकारी के कार्यालय एवं थाना से नहीं कराकर शस्त्र को छुपाकर रखना व लेकर चलना, गलत तरीके से शस्त्र अनुज्ञप्ति प्राप्त कर क्रय किए गए रेगुलर आग्नेयास्त्र के स्वरूप साथ छेड़छाड़ करना, अपना गलत नाम, पता का पहचान पत्र बनवाना, शस्त्र अनुज्ञप्ति व रेगुलर आग्नेयास्त्र के लिए प्रशासन द्वारा जारी आदेश का उल्लंघन करना, गलत जानकारी देकर सरकारी अंगरक्षक प्राप्त करना, अपने नाम से प्राप्त किए गए शस्त्र अनुज्ञप्ति की जानकारी छुपाने के मामले में धारा – 419 / 420 / 188 / 201 / 467 / 468 / 34 भा द 0 वि 0 एवं 25 (1-B) A / 30 शस्त्र अधिनियम के तहत संज्ञेय अपराध है। जिसके तहत अमोद कुमार को विधिवत गिरफ्तार किया गया।

- Advertisement -

वहीं पुलिस ने हिरासत में लिए गए अंगरक्षक और बाउंसर को गहन पूछताछ के बाद छोड़ दिया। एसपी राकेश कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि आमोद कुमार के द्वारा ड्राइविंग लाइसेंस व दो अलग-अलग पहचान पत्र प्रस्तुत किया गया। गलत जानकारी देकर सरकारी अंगरक्षक प्राप्त किया गया। उसके पास से एक पिस्तौल, दो राइफल, करीब तीन दर्जन से अधिक जिंदा कारतूस, दो मैग्जीन, एक सफारी गाड़ी (काला रंग) जिसका निबंधन संख्या BR 43L 0001 को भी जब्त किया गया। वहीं प्राप्त जानकारी के अनुसार आमोद संवेदक के रूप में काम करते हैं। जिसे गिरफ्तार करते हुए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

रितेश हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -