सहरसा: कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए भूख हड़ताल कार्यक्रम करने की नहीं मिली अनुमति, कार्यक्रम रद्द

0
47
- Advertisement -

सहरसा – जिले में संचालित कोशी युवा संगठन के बैनर तले 3 सितम्बर से होने वाले भूख हड़ताल की मंजूरी जिला प्रशासन द्वारा नहीं दी गई जिस कारण कार्यक्रम को रद्द किया गया। बताते चलें कि कोसी युवा संगठन के बैनर तले संघर्षशील युवा नेता सोहन झा की अगुवाई में ओवरब्रिज के शीघ्र निर्माण कार्य को शुरू करने, सदर अस्पताल को अपग्रेड कर मेडिकल कॉलेज बनवाने एवं जिला में बंद पड़े सभी स्वास्थ्य एवं उपस्वास्थ्य केन्द्र को सुचारू रूप से चालू करने की माँग को लेकर आगामी तीन सितंबर से भुख हड़ताल का कार्यक्रम होना था लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा कार्यक्रम की मंजूरी नहीं मिली जिस कारण कार्यक्रम रद्द किया गया।

- Advertisement -

वहीं कार्यक्रम रद्द को लेकर सदर अनुमंडल पदाधिकारी शंभुनाथ झा ने कहा कि कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सुरक्षा की दृषिकोण से अनिश्चितक़ालीन भूख हड़ताल को निरस्त करने का चिट्ठी जारी किया गया है। वहीं संगठन के संस्थापक सह युवा नेता सोहन झा ने बताया कि हम ज़िला प्रशासन द्वारा दिये गए आदेश का सम्मान करते हैं और लॉकडाउन की अवधी समाप्त होने तक अनिश्चितक़ालीन भूख हड़ताल कार्यक्रम स्थगित करते हैं लेकिन ज़िला प्रशासन के इस फ़ैसले में हमें सहरसा के स्थानीय जनप्रतिनिधियों की सोची समझी गहरी साज़िश नज़र आ रही है। यहाँ के स्थानीय जनप्रतिनिधि मेरे द्वारा आयोजित आंदोलन से घबराने लगे हैं। उन्हें लगता है कि सहरसा की जनता अपने मूलभूत समस्याओं को समझ गई तो आने वाले चुनाव में इसका परिणाम उनके ख़िलाफ़ हो सकता है। इसलिये वो चाहते ही नहीं की चुनाव के समय ज़िले में विकास के मुद्दे पर आवाज़ उठाया जाय।

सोहन झा ने बताया की अगर सरकार और ज़िला प्रशासन को कोरोना से इतना ही डर लगता है तो सरकार के इशारे पर चुनाव आयोग बिहार में समय पर विधानसभा चुनाव क्यों करवाने की तैयारी कर रही है। चुनाव से कोरोना संक्रमण फैलने का डर नहीं है ❓उन्होंने कहा कि मैं जनसंपर्क करता रहूँगा और लोगों को मूलभूत समस्याओं से भटकने नहीं दूँगा। इसी वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में स्थानीय सभी भ्रष्ट नेताओं का चेहरा बेनक़ाब करके रहूँगा। श्री झा ने कहा कि मैं चुप नहीं बैठूँगा, मैं शहर के विकास हेतु लगातार संघर्ष करता रहूँगा। मुझे आंदोलन करने से रोका जा सकता है लेकिन आम जनता को जागरूक करने से नहीं।

रितेश हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -