सहरसा: जिले की आशा व आशा फैसिलिटेटर को कोविड-19 में किये कार्यो के लिए प्रोत्साहन राशि दिया जायेगा –डीसीएम राहुल किशोर

0
99
- Advertisement -

सहरसा। कोरोना संक्रमणकाल में लोगों को बेहतर सुविधा प्रदान करने एवं संक्रमण से बचाव में चिकित्सकों से लेकर क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं तक सभी अपना योगदान दे रहे हैं। राज्य के सभी जिलों में इसको लेकर आशा व आशा फैसिलिटेटर के द्वारा घर-घर जाकर सर्वे कर कार्य भी किया है। जिनके योगदान की चर्चा हर-जगह हो रही है। इसी संदर्भ में कोविड-19 में किए गए कार्यों के लिए जिले में कार्यरत सभी आशा कार्यकर्ता को सर्वे कार्य हेतु अप्रैल, मई व जून माह में 1000 रुपया अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि के रूप में दी जाएगी। साथ ही सभी आशा फैसिलिटेटर को आशा के अनुश्रवण करने हेतु अप्रैल, मई व जून हेतु 500 रुपया की राशि दी जाएगी।

सहरसा के डीसीएम राहुल किशोर ने बताया जिले में 83 आशा फैसिलिटेटर तथा 1658 आशा कार्यरत है। कोविड-19 में आशा एवं आशा फैसिलिटेटर का उन्मुखीकरण कराकर घर-घर भ्रमण कर सर्वे कराने का कार्य सौंपा गया था। उन्मुखीकरण के उपरांत आशा एवं आशा फैसिलिटेटर को पल्स पोलियो के अनुरूप अपने कार्य क्षेत्र में प्रतिदिन 25 घर का भ्रमण कर कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए समुदाय में कोविड-19 से संबंधित संदेशों का प्रसार करेगी तथा संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान कर उनकी विवरणी संलग्न प्रपत्र में भर कर प्रखंड समुदायिक उत्प्रेरक को उपलब्ध कराने के निर्देश दिया गया था।

- Advertisement -

आशा एवं आशा फैसिलिटेटर को अपने दैनिक कार्यों के अतिरिक्त कार्य को करने का भी निर्देश दिया गया था। जिसके लिए आशा एवं आशा फैसिलिटेटर को लॉकडाउन के अवधि काल, अप्रैल से मई 2020 के लिए आशा को 2000 की राशि का भुगतान उपलब्धि दिया जाना है। उपरोक्त कार्य हेतु सभी आशा एवं आशा फैसिलिटेटर को मास्क एवं भ्रमण के उपलब्ध कराया गया था।

डीसीएम राहुल किशोर ने बताया कि पूर्व में कोविड-19 पर आशा एवं आशा फैसिलिटेटर का उन्मुखीकरण कराकर घर-घर भ्रमण करने एवं उसके रोकथाम हेतु किए जाने वाले कार्यों के लिए अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि आशा को 1000 प्रति माह एवं आशा फैसिलिटेटर को ₹500 प्रति माह दिया जाना है। इसकी जानकारी जिले में पूर्व में ही पत्र निर्गत कर किया जा चुका है।

- Advertisement -