सहरसा में ओवरब्रिज निर्माण और बंद पड़ा पेपर मिल बना चुनावी मुद्दा, शहरवासियों को सिर्फ मिला आश्वासन

0
144
- Advertisement -

विधानसभा चुनाव हो या लोकसभा चुनाव इन सभी चुनाव में एक बैजनाथपुर पेपर मील और दूसरा शहर के बीचोबीच रेलवे ओवरब्रिज की मुद्दा हर चुनाव में उजागर होती है। चुनाव खत्म हो जाने के बाद इन मुद्दों को भी छोड़ दी जाती है। आज बैजनाथपुर स्थित वर्षों से विराम परा पेपर मिल का मुद्दा इस विधानसभा चुनाव में भी उजागर हुई है। इसके साथ साथ बंगाली बाजार ओवरब्रिज का मुद्दा भी सामने आया है। वैश्य समाज के जिलाध्यक्ष मोहन प्रसाद साह ने जनप्रतिनिधियों पर पलटवार करते हुए कहा कि चुनाव के समय में पेपर मिल और ओवरब्रिज के मुद्दे पर वोट की राजनीति की जाती है। चुनाव खत्म हो जाने के बाद इन मुद्दों को भी छोड़ दिया जाता है आज अगर बैजनाथपुर पेपर मिल चालू होती तो हजारों बेरोजगार लोगों को रोजगार मिल पाती और बेरोजगारों लोगो को रोजगार के लिए अन्य राज्य के लोए पलायन नहीं करना पड़ता।

दूसरी ओर बंगाली बाजार ओवरब्रिज की मांग वर्षों से सहरसा विधानसभा क्षेत्र की जनता कर रहे हैं। ओवरब्रिज नहीं बनने के कारण हर दिन जाम की समस्या बनी रहती है। कोई मरीज अगर जाम में फँस जाए तो अस्पताल पहुंचते पहुंचते उनकी मौत हो जाती है। कई बार इस मुद्दे को लेकर आंदोलन भी की गई है, सरकार को जगाने का प्रयास किया गया है लेकिन सरकार को सिर्फ वोट की राजनीति करनी आती है।

- Advertisement -

रितेश हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -