सहरसा: प्रमंडलीय आयुक्त तथा जिलाधिकारी ने कोविड-19 जिला नियंत्रण कक्ष का किया निरीक्षण

0
20
- Advertisement -

सहरसा- 4 अगस्त, प्रमंडलीय आयुक्त के. सेंथिल एवं जिलाधिकारी कौशल कुमार ने मंगलवार को कोविड- 19 जिला नियंत्रण कक्ष का निरीक्षण कर कोरोना संक्रिमत मरीजों का हाल जाना। इसके साथ ही नियंत्रण कक्ष को एक्टिवेट रखते हुए मरीजों की शिकायत/ समस्या का शीघ्र समाधान करने तथा आवश्यक जानकारी प्रदान करने का निर्देश दिया। आयुक्त ने कहा कि होम आईसोलेशन मे रह रहे कोरोना से संक्रमित पाज़िटिव मरीज यदि अपने घरों से बाहर निकलते हैं तो उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई करते हुए उन्हें होम आईसोलेशन से कोविड आईसोलेशन केन्द्रों पर रखवाने की कार्रवाई करें। साथ ही उनके विरुद्ध एपेडेमिक एक्ट के सुसंगत धाराओ के तहत कड़ी कार्रवाई करते हुए प्राथमिकी दर्ज कराये ।

होम आईसोलेशन में सावधानी बरतने की सलाह:

- Advertisement -

प्रमंडलीय आयुक्त ने कहा कि होम आईसोलेशन मे रह रहे पाज़िटवी मरीज स्वयं पर नियंत्रण रखें। उनके बाहर निकालने से समुदाय मे संक्रम फैलनेका खतरा है । होम आईसोलेसन में रह रहे मरीज के आस पास के लोगो से अपील है कि ऐसे मरीज के घरो से निकालने अथवा घरो के आस-पास घूमते पाये जाने पर तुरंत जिला नियंत्रण कक्ष के दूरभाष पर सूचित करे । कंटेनमेंट जोन में सभी प्रावधानों का सख्ती से अनुपालन करने के निर्देश देते हुए आयुक्त ने कहा कि कोई भी व्यक्ति यदि कंटेनमेंट जोन से बाहर निकलते है या बाहर से आते है तो उनके विरुद्ध अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी /थाना प्रभारी सख्त कानूनी कार्रवाई करें। अनिवार्य रूप में कंटेंमेंट जोन में रह रहे सभी व्यक्तियों की जांच कराये। साथ ही बुजुर्ग ,बीमार एवं गर्भवती महिलाओं एवं बच्चे की जांच के लिए उस क्षेत्र में कैम्प कर जांच करे ।
प्रमंडलीय आयुक्त ने कोविड-19 जिला नियंत्रण कक्ष में की गई व्यवस्थाओ का भी निरक्षण किया :

जिलाधिकारी कौशल कुमार ने की गई व्यवस्थाओं के संबंध में आयुक्त को जानकारी देते हुए कहा कि कोविड जिला नियंत्रण कक्ष के दूरभास संख्या – 06478-222210 एवं टोल फ्री न० 1800 – 345-6633 के दस- दस हटिंग लाइन पर तीन पालियो में प्रभारी पदाधिकारी, डॉक्टर सहित पर्याप्त संख्या में कर्मियों कि प्रतिनियुक्ति कि गई है। प्राप्त कॉल के आधार पर संबन्धित को कोविड से संबन्धित जानकारी , चिकित्सीय परामर्श , एवं सहयोग उपलब्ध कराया जा रहा है। हर पाली में प्रतिनयुक्त डॉक्टर द्वारा चिकित्सीय परामर्श , टॉल फ्री नंबर एवं टेलीमेडिसिन , विडियो कांफ्रेस्स / विडियो कालिंग के माध्यम से दी जा रही है। नियंत्रण कक्ष के संस्थापित में आई हेल्प यू काउंटर के माध्यम करते हुए चिकित्सीय परामर्श एवं सहायता कि जा रही है। कोविड मरीजों के लिए अलग से 2 एम्बुलेंस की व्यवस्था की गयी है।कल से दो मोबाइल मेडिकल वैन के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रो में जा कर अधिक से अधिक संक्रामण जाँच कराई जाएगी।

एनएनएम एवं चिकित्सकों की हुई प्रतिनियुक्ति:

मंगलवार को 18 एएनएम एवं पाँच डॉक्टर कि संविदा पर नियुक्ति की गई,जिन्हें कोविड हैल्थ केयर केन्द्रों पर प्रतिनियुक्त किया जाएगा। आईसोलेसन वार्ड में सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं जिसके माध्यम से मरीज तुरंत डॉक्टर से बात कर अपनी परेशानी कह सहायता प्राप्त कर सकते हैं। आक्सीजन सिलिंडर पर्याप्त संख्या में उपलब्ध है। अभी तक किसी मरीज को आक्सीजन की जरूरत नहीं पड़ी है। जरूरत होने पर तुरंत आक्सीजन कि व्यवस्था कि जाएगी ।

प्रमंडलीय आयुक्त के कोविड नियंत्रण कक्ष के निरीक्षण के अवसर पर जिलाधिकारी कौशल कुमार, आयुक्त के सचिव रामेश्वर पांडेय, नियंत्रण कक्ष के वरीय प्रभारी पदाधिकारी सह स्थापना उप समाहर्त्ता रवीन्द्र कुमार, सदर अनुमंडल पदाधिकारी शंभूनाथ झा, सदर अस्पताल उपाधीक्षक डाक्टर एसपी विशवास, एवं अन्य मौजूद थे ।

- Advertisement -