सहरसा: पुलिस की कार्यशैली पर बड़ा सवाल, पुलिस अभिरक्षा से डेडिकेटिड कोविड हेल्थ सेंटर से कोरोना कैदी फरार

0
100
- Advertisement -

सहरसा :- जिले के सिमरीबख्तियारपुर थाना क्षेत्र के डेडिकेटिड कोविड हेल्थ सेंटर में इलाजरत कोरोना कैदी फरार होने के बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया। वहीं उसके पुलिस अभिरक्षा से फरार होने की सूचना पर पुलिस उसकी गिरफ्तारी हेतु छापेमारी शुरू कर दिया है। सिमरी एसडीपीओ मृदुला कुमारी ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव नेहाल पिता धरम यादव साकिन नया टोला जुरावगंज थाना कोढा जिला कटिहार का इलाज नगर पंचायत स्थित डेडिकेटिड कोविड हेल्थ सेंटर में पुलिस अभिरक्षा में इलाज चल रहा था। जो सोमवार की शाम भेंटिलेटर के रास्ते भाग गया। उसके निगरानी हेतु दो चौकीदार प्रमोद पासवान और लाल पासवान को लगाया गया था।

वहीं दोनों चौकीदार को ड्यूटी में लापरवाही बरतने को लेकर कार्रवाई की जा रही है। बताते चलें बीते 1 सितम्बर को नगर पंचायत क्षेत्र के रानीबाग बाजार में बैंक से रूपए निकालकर घर जा रहे ओमप्रकाश भगत रायपुरा निवासी सिमरी बख्तियारपुर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शाखा से एक लाख रुपए की निकासी कर घर जा रहा था तभी रानीबाग में उसके बाईक की डिक्की से उच्चकें द्वारा रुपए निकालते ग्रामीणों ने पकड़ लिया और इस दौरान सैकड़ों की संख्या में लोग जूट गए और उसकी जमकर पिटाई कर पहूंची पुलिस के हवाले कर दिया था। थाना में उसकी सारी प्रक्रिया होने के बाद न्यायिक हिरासत में भेजने से पूर्व स्थानीय अस्पताल में कोरोना जॉच कराई गई जिसमें उसका जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद मानों जैसे क्षेत्र में हड़कंप मच गया था। क्योंकि जब डिक्की से रुपए निकालते पकड़ा गया तो सैकड़ों की संख्या भीड़ उसे पीट रही थी।

- Advertisement -

सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने पकड़ किया था पुलिस के हवाले

जिसे मौके पर पहुंचे इंस्पेक्टर सह थानाध्यक्ष सुधाकर कुमार और पुलिसकर्मी और चौकीदार ने भीड़ से बचाकर उसे अपने साथ थाना ले गए और ज्यादा पिटाई होने की बजह से पुलिस अभिरक्षा में उसका सिमरी अस्पताल में इलाज भी कराया गया था। जिसमें उसका जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आया था। जिसके बाद उसका इलाज नगर पंचायत स्थित डेडिकेटिड कोविड हेल्थ सेंटर में पुलिस अभिरक्षा में चल रहा था। जो कि सोमवार की शाम भेंटिलेटर के रास्ते भाग गया।

रितेश हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -