सहरसा :थानाध्यक्ष के निलंबन को लेकर सड़क पर उतरे छात्र, पुतला फूंका

0
126
- Advertisement -

सहरसा: जिले के सोनबर्षाराज में बीते 4 सितंबर को संध्या गश्ती के दौरान थानाध्यक्ष के निजि वाहन चालक द्वारा श्री राम भारतीय कला केंद्र दिल्ली में पढाई कर रहे पड़ड़िया के छात्र ललित कुमार की बेवजह बेरहमी से पिटाई मामले को लेकर दर्जनों छात्र आक्रोश होकर शुक्रवार को सड़क पर उतर आए।

प्रदर्शन करते हुए विभिन्न छात्र संगठनों सैकड़ों छात्रों ने स्थानीय दुर्गा मंदिर के समीप शुक्रवार को सैकड़ों छात्रों ने पुलिस प्रशासन के विरोध में नारेबाजी कर आक्रोश मार्च निकालते हुए थाना के मुख्य द्वार पर थानाध्यक्ष मो० अकमल हुसैन का पुतला दहन किया। विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने अपने हाथों में पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद जाग उठा है नौजवान नहीं सहेगा अत्याचार, शराब माफिया से प्यार आमजनों पर अत्याचार जैसे अनेकों स्लोगन लिखी तख्तियां लेकर स्थानीय थानाध्यक्ष व पुलिस प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की।

- Advertisement -

छात्रों को कहना था की बीते चार सितंबर को थानाध्यक्ष के निजी वाहन के चालक द्वारा छात्र ललित कुमार को पिटाई किये जाने की शिकायत थानाध्यक्ष से किए जाने के बाद भी अब तक किसी तरह का कोई कार्रवाई नहीं की गयी। छात्रों की मांग है कि थानाध्यक्ष द्वारा छात्रों से सार्वजनिक रूप से माफी मांगी जाए या तो थानाध्यक्ष को निलंबित किया जाय। पुतला दहन के बाद आक्रोशित छात्रों ने अतिथि भवन के करीब कुछ देर तक सड़क पर बैठकर अपने मांगों को लेकर नारेबाजी करने लगे। सड़क जाम कर सोनबर्षाराज – बैजनाथपुर मुख्य मार्ग पर यातायात बाधित कर दिया। सड़क जाम की सुचना पर पहुंचे सोनबर्षाराज प्रखंड विकास पदाधिकारी कैलाशपति मिश्र और सीओ उपेंद्र कुमार तिवारी ने आक्रोशित छात्रों को शांत कराते हुए थानाध्यक्ष के विरुद्ध वरिय पदाधिकारी को सुचित किए जाने का आश्वासन दिया।

बताते चलें कि लॉकडाउन में फंसे श्री राम भारतीय कला केंद्र दिल्ली में अभिनय का कोर्स कर रहे पड़ड़िया पंचायत के समिति सदस्य सिकंदर यादव का पुत्र ललित कुमार बीते 4 सितंबर की शाम अपने कुछ पुराने मित्रों से बस पड़ाव के समीप बातचीत कर रहा था इसी दौरान अपने नीजी वाहन पर संध्या गश्ती के लिए निकले थानाध्यक्ष अकमल हुसैन ने वाहन रोककर जांच पड़ताल शुरू कर दिया। जांच के दौरान बिना किसी बजह उनके वाहन चालक द्वारा डंडे से बुरी तरह पिटाई कर दी गई। पीड़ित यूवक द्वारा न्याय के लिए स्थानीय थानाध्यक्ष सहित वरिय पदाधिकारियों को आवेदन देकर न्याय की गुहार भी लगाई गई। बावजूद कोई कार्रवाई नहीं होता देख मामला बिगड़ गया और छात्र उग्र होकर सड़क उतर आए।

रितेश हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -