मनाया गया प्रखर समाजवादी नेता परमेश्‍वर कुंवर की 99वीं जयंती

0
101
- Advertisement -

सहरसा – प्रखर समाजवादी नेता, स्‍वतंत्रता सेनानी और महिषी के पूर्व विधायक स्‍व. परमेश्‍वर कुमर जी की 99 वीं जयंती समारोह का आयोजन उनके पैतृ‍क ग्राम तरही के मेला ग्राउंड में किया गया। इस जयंती समारोह का उद्घाटन पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना ई० स्‍व. परमेश्‍वर कुंवर जी की एक मात्र पुत्री श्रीमती विमला देवी, जिला कांग्रेस कमेटी के जिला अध्‍यक्ष प्रो. विद्यानंद मिश्र, मुखिया शिवेन्द्र कुमार जिशु महिषी प्रमुख बैजनाथ कुमार विमल, कांग्रेस नेता नईमुद्दीन बाबू, मुखिया शांति लक्ष्‍मी चौधरी और मुखिया अमित सिंह ने संयुक्‍त रूप से की।

कार्यक्रम की अध्‍यक्षता रालोसपा के जिला अध्‍यक्ष सह मुखिया शिवेन्‍द्र कुमार जीशु ने की और कार्यक्रम का संयोजक धनंजय कुमार ने किया। इस मौके पर सबों ने स्‍व. परमेश्‍वर कुंवर की तस्‍वीर पर पुष्‍प अर्पित कर श्रद्धांजलि भी अर्पित की। इस मौके पर अपने अध्‍यक्षीय संबोधन में शिवेन्‍द्र कुमार जीशु ने कहा कि स्‍व. परमेश्वर कुमर कोसी की राजनीति के वैसे ध्रुव तारा थे, जिनकी चमक आज भी हमें ईमानदारी, कर्मनिष्ठा, सिद्धांत और सादगी के राह पर चलने को प्रेरित करता है। आज हमें गर्व होता है कि हमारा जन्म ऐसे ही मनुष्य की कर्मभूमि में हुआ है। यह हमारा सौभाग्य है। स्‍व. परमेश्वर कुमर ऐसे सामाजिक और राजनीतिक योद्धा थे, जो चार बार बिहार विधान सभा के सदस्य रहे। लेकिन उनके पास एक कौड़ी तक नहीं थी, क्योंकि उन्होंने अपना सर्वस्व सार्वजनिक जीवन को समर्पित कर दिया था। यही वजह है कि कोसी में इनके कद का कोई दूसरा नहीं हुआ और न होगा। तभी तो हम सभी लोग हर साल अपने इस महान पुरुष को याद करने के ले लिए उनकी जयंती समारोह का इंतजार करते हैं। आज सामाजिक और राजनीतिक समरसता के लिए उनके बताए रास्ते पर चलने का हम संकल्प लेते हैं। यही उस महान विभूति को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। मंच संचालन मनोरंजन कुमार सिंह ने किया।

- Advertisement -

संयोजक धनंजय कुमर ने कहा कि स्‍व. परमेश्वर कुंवर साल 1957 और 1962 में सुपौल तथा 1967 और 1977 में महिषी क्षेत्र से विधानसभा में गए। तरही गांव में उनका जन्म 2 फरवरी 1922 को हुआ। उसके बाद वे जितनी मुखरता और ऊर्जा से स्वाधीनता संग्राम में अंग्रेजों से लोहा लिया, उतनी ही ईमानदारी और ऊर्जा से सन 74 के जेपी आंदोलन में अपने सिद्धांतों पर चलकर इमरजेंसी के खिलाफ भी लड़े। उनकी इसी जीवटता की वजह से प्रसिद्ध गांधीवादी विचारक और पर्यावरणविद कुमार कलानंद मणि ने उन्हें कोसी रत्न की उपाधि दी थी।

स्‍व. परमेश्‍वर कुंवर जी की 99 वीं जयंती समारोह में महिषी सत्यनारायण राय, बालेश्वर पासवान, दशरथ कुमर, विनोद कुमर, रामदेव कुमर, रामनंदन कुमर, लक्ष्मी मुखिया, विष्णुदेव राय, जयनंदन राय, श्यामसुंदर राय, शंकर यादव, भरथ चौधरी, संजीत पासवान, नागेंद पासवान, ललित मोहन सिंह, नुनु प्रसाद सिंह, विकास कुमार, बबलू कुमर, रौशन कुमर, रामबिलास कुमर, दिलीप चौधरी, समाज सेवी प्रो अक्षय चौधरी समेत बड़ी संख्‍या में लोग मौजूद रहे। जयंती समारोह में आगत अतिथियों का स्वागत गान धर्मेन्द्र राय ने किया।

रितेश : हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -