कोरोना के छः संदिग्ध मरीज पहुंचे सदर अस्पताल सहरसा, आइसोलेशन वार्ड में किया गया शिफ्ट

0
1528
- Advertisement -

रितेश : हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

रेलवे स्टेशन पर कोरोना संक्रमण हेतु जाँच अभियान चलाया जा रहा है। जाँच के दौरान एक संदिग्ध पाया गया है। संदिग्ध का नाम रमण कुमार (काल्पनिक नाम) जिले के बलही गांव का रहने वाला बताया गया है। संदिग्ध को रेलवे पुलिस ने एम्बुलेंस से विशेष जाँच हेतु सदर अस्पताल सहरसा भेजा। सदर अस्पताल में रमण कुमार (काल्पनिक नाम) ने बताया कि मैं अपने सहयोगी चिन्टू कुमार (काल्पनिक नाम) के साथ अमृतसर में पेंटर काम करता हूँ।

- Advertisement -
स्टेशन से अस्पताल भेजे गए दो संदिग्ध

मैं वहाँ से अपने सहयोगी के साथ अमृतसर से ट्रेन में सफर कर सहरसा आया हूँ। रमण कुमार (काल्पनिक नाम) ने कहा कि गैस की वजह से उसके पेट में बराबर दर्द रहता था जिस कारण छुट्टी लेकर अपने गृह जिला सहरसा आया। जाँच के दौरान मुझे कोरोना से पीड़ित बताकर जाँच हेतु सदर अस्पताल भेजा गया।

स्टेशन पर मौजूद पुलिस

इसी प्रकार महाराष्ट्र से सहरसा लौटकर अपने घर खौजरी मटिहानी जाने के क्रम में सहरसा प्लेटफार्म पर ही डॉक्टर की टीम ने मन्तोष (काल्पनिक नाम) एवं उसके एक साथी को कोरोना संक्रमण का जांच किया। डॉक्टर की टीम को सन्देह होने पर दोनों युवक को विशेष जाँच हेतु सदर अस्पताल भेजा गया। जहाँ मौजूद डॉ० मसरूर आलम ने सभी कोरोना संदिग्ध मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया है।

डॉ० मसरूर ने बताया कि आज सुबह से शाम 4 बजे तक आधा दर्जन मरीजों को जांचोपरांत आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। उन्होंने कहा कि जिले के महिषी प्रखंड में भी एक कोरोना संदिग्ध व्यक्ति की पहचान किया गया है। संदिग्ध व्यक्ति कुछ दिन पुर्व सऊदी अरब से अपने गाँव आया है। इस संदिग्ध को महिषी से लाने हेतु मेडिकल टीम को भेजा गया है। जिले में आधा दर्जन कोरोना संदिग्ध मरीज पाये जाने के बाद अस्पताल परिसर में अफरा तफरी मच गया है। सभी संदिग्ध मरीज का उम्र 25 से 35 के बीच का बताया गया है। मालूम हो कि सदर अस्पताल में छः बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है।

डॉ० मसरूर आलम

अस्पताल सूत्रों के अनुसार सभी कोरोना संदिग्ध मरीजों को एक ही वार्ड में शिफ्ट किया गया है। उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रबंधक द्वारा वार्ड में साबुन, हेंडवाश, स्प्रीट की कोई व्यवस्था नहीं है। बताते चलें कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा सहरसा सदर अस्पताल में प्रयाप्त मात्रा में किट मुहैया नहीं कराया गया है जिस कारण अस्पताल कर्मियों में भय व्याप्त है।

- Advertisement -