वित्त मंत्री सुशील मोदी द्वारा विधानसभा में प्रस्तुत बजट पर रालोसपा जिलाध्यक्ष ने किया पलटवार

0
46
- Advertisement -

रितेश : हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

बिहार सरकार ने वित्तीय वर्ष 2020-21 का बजट पेश कर दिया है। बजट पेश करने के बाद रालोसपा जिलाध्यक्ष शिवेन्द्र कुमार जिशु ने पटलवार करते हुए कहा कि सरकार पेश बजट को खर्च करने में हर बार फिसड्डी साबित हो रही है। ये हम नहीं कह रहे। यह योजना विभाग की ही रिपोर्ट कहती है। बिहार सरकार ने वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए बजट का आकार 2 लाख 501 करोड़ का रखा था, जिसका 50 फीसदी भी खर्च नहीं हो पाया है। ऐसे में वित्तीय वर्ष 2020-21 में पेश 2 लाख 11 हजार करोड़ के बजट क्‍या मायने हैं। ये समझने की जरूरत हैं।

- Advertisement -

उन्होंने आगे कहा कि वैसे अगर बजट पर गौर करें, तो यह युवाओं को निराश करने वाला बजट है। सरकार ने चुनावी साल के इस बजट में भले शिक्षा को ध्‍यान में रखा है, लेकिन सरकार की इच्‍छाशक्ति बताती है कि बजट सिर्फ लुभावनी है। दरअसल सरकार ने प्रदेश में शिक्षा को सुधारने के लिए कभी इच्‍छाशक्ति ही नहीं दिखाई है। सरकार द्वारा इस बजट में 31 मार्च कर हर घर नल का जल और गली-नाली का पक्कीकरण की बात कही गई है, जबकि जमीन पर इसकी हकीकत कुछ और ही है। सरकार जितना भी बिहार के विकास की बढोत्तरी की बात कर ले, लेकिन भूखमरी और गरीब के इंडेक्‍स में बिहार का स्‍थान देशभर में निचले स्‍तर पर है। कुल मिलाकर देखा जाये तो बजट चुनाव में लुभाने के लिए है। इसमें प्रदेश के विकास के लिए सरकार की कोई मंशा मालूम नहीं पड़ती।

- Advertisement -