विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर, भारत सरकार के नाम सौंपा ज्ञापन

0
36
- Advertisement -

सहरसा – जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के कार्यकर्ताओं द्वारा जहां एक और देश के 300 से अधिक जिला मुख्यालय पर ज्ञापन दिया। वहीं जिला मुख्यालय सहरसा में भी कोरोना महामारी के कारण सरकार द्वारा निर्दिष्ट नियमों का पालन करते हुए जिलाधिकारी सहरसा को प्रधानमंत्री जी के नाम जनसंख्या नियंत्रण कानून विषयक ज्ञापन सौंपा।

कार्यकर्ताओं ने भारत माता की जय, वंदे मातरम के नारे लगाते हुए जनसंख्या नियंत्रण नारे भी लगाए जैसे :-

- Advertisement -

बढ़ती जो आबादी है – देश की बर्बादी है

दो बच्चों का कानून लागू करो जन जन की यही पुकार – दो बच्चे पूरा परिवार

समाधान का एक जुनून – दो बच्चों का हो कानून

ज्ञापन देने आए कार्यकर्ताओं ने बताया कि जनसंख्या विस्फोट की समस्या के समाधान के लिए जनसंख्या समाधान फाउंडेशन पिछले लगभग 7 वर्षों से शांतिपूर्ण तरीके से कई राज्यों तथा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लगातार धरने, प्रदर्शन, पदयात्रा, जागरूकता रैली, जिलाधिकारी के माध्यम से सरकार के समक्ष देश में सभी नागरिकों के लिए अधिकतम दो बच्चों का कानून बनाकर लागू करने की मांग उठा रहा है। इस विषय में 9 अगस्त 2018 को भारत के राष्ट्रपति जी से संस्था एवं सांसदों के संयुक्त प्रतिनिधि मंडल ने भेंट करके उन्हें कानून की मांग के समर्थन में 125 सांसदों द्वारा हस्ताक्षरित संस्था का मांग पत्र सौंपकर सरकार द्वारा कानून बनाने की प्रक्रिया आरंभ करने का अनुरोध किया कार्यकर्ताओं ने आगे बताया कि जनसंख्या समाधान फाउंडेशन द्वारा 22 दिसंबर को राजस्थान के जयपुर से अखिल भारतीय प्रवास के अंतर्गत राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड, उड़ीसा और पश्चिम बंगाल के अनेक जिलों में 20 मार्च 2020 तक हुई जनसंख्या कानून सभाओं के परिणाम स्वरूप जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर देशभर में सकारात्मक वातावरण का निर्माण हुआ है।

कार्यकर्ताओं ने बताया कि देश के कोरोनावायरस संक्रमण के पश्चात जनसंख्या कानून यात्रा पुनः प्रारंभ होगी तथा देश के सभी राज्यों के लोगों को जनसंख्या विस्फोट के प्रति जागरूक करके आंदोलन से जोड़ा जाएगा। इस मौके पर सहरसा जिलाध्यक्ष रौशन झा, अमित कन्हैया, शारदा कांत झा, हिमांशु झा, राजेश सिंह, शैलेश झा आदि अन्य कई लोग शामिल रहे।

रितेश : हन्नी
कोशी की आस@सहरसा

- Advertisement -