सुपौल : शिक्षा और रोजगार के लिए रालोसपा ने आयोजित की मानव कतार।

0
66
- Advertisement -

एन के सुशील
कोशी की आस@सुपौल

जिले के छातापुर प्रखंड क्षेत्र के भीमपुर स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय भींमपुर परिसर के समीप एस एच 91 मुख्य सड़क पर शुक्रवार को राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के बैनर तले बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती के अवसर पर शिक्षा और रोजगार के लिए मानव कतार आयोजित की गई। मानव कातार आयोजित करने से पूर्व रालोसपा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने स्वर्गीय ठाकुर के तैल चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया तथा मानव कतार में एक दुसरे के हाथ से हाथ जोड़कर मानव कतार की कड़ी में सम्मिलित हुए।

- Advertisement -

कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के प्रदेश महासचिव अशोक कुमार मेहता ने अपने वक्तव्य रखते हुए कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के आह्वान पर पूरे बिहार में शिक्षा और रोजगार को लेकर मानव कतार आयोजित की जा रही है, जिसका मुख्य उद्देश्य बिहार में शिक्षा के गिरते स्तर व बेरोजगारी को लेकर यह अभियान चलाया जा रहा है।

उन्होंने आगे कहा कि सुबे की सरकार में शिक्षा का स्तर बिल्कुल ही गिर चुका है। सरकारी विद्यालयों में बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा नहीं मिल पा रही है। बेरोजगार युवकों को रोजगार के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। लालू यादव की सरकार में शिक्षकों को कंपटीशन के आधार पर बहाली की जाती थी लेकिन नीतीश के सरकार में पंचायत स्तर पर शिक्षकों की नियोजन की बहाली पंचायत स्तर पर कर दी गई है। ऐसे शिक्षक जिनके पास समुचित ज्ञान ही नहीं है उनसे बच्चों के गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की कल्पना कैसे की जा सकती है। नीतीश सरकार के 15 साल के शासनकाल में उन्होंने जो बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की बात की वादे की थी वह आज तक असफल साबित हो रही है। बिहार की दशा यह है कि बेरोजगारी, अच्छी शिक्षा, भ्रष्टाचार, अफसरशाही व रिश्वतखोरी चरम पर है। किसी भी कार्यालय में बगैर पैसा लिए गरीबों का कार्य नहीं होता है या फिर उन्हें कई दिनों तक कार्यालयों का चक्कर काटना पड़ता है। उद्योग और तकनीक के क्षेत्र में अगर बिहार के युवकों को रोजगार मिले तो उसे पंजाब, दिल्ली आदि जैसे शहरों के लिए पलायन नहीं करना पड़ेगा।

मौके पर प्रखंड अध्यक्ष सुरेश मुखिया ,रामजीवन मुखिया, युवा अध्यक्ष गुरुदयाल मेहता ,अशोक मंडल , कृत्यानंद मंडल ,रामविलास मेहता ,मोहम्मद जसीम ,सूर्यनारायण मंडल, वासुदेव मंडल, अर्जुन मेहता, मोहम्मद हबी, मोहन याद, ललन साह, राजदेव पासवान आदि मौजूद थे।

- Advertisement -