सुपौल : कश्मीर घाटी की दो सगी बहनों को भगा सुपौल लाने का आरोप, पुलिस ने पकड़ा प्रेम प्रसंग बताया।

0
336
- Advertisement -

 

- Advertisement -

सोनू आलम बलराम कुमार
कोसी की आस@त्रिवेणीगंज,सुपौल

कश्मीर घाटी से धारा 370 और 35A खत्म क्या हुई? इसका असर दिखने लगा है। अब समूचे देश में एक नागरिकता लागू होने के कारण, कश्मीर की लड़कियों से कहीं भी शादी कर सकती हैं और उनका अन्य अधिकारों के साथ-साथ संपत्ति का भी अधिकार सुरक्षित रहेगा।

 

मामला कश्मीर और बिहार के सुपौल जिले का है। बताया जा रहा है कि सुपौल जिले के राघोपुर थानां क्षेत्र के रामविशनपुर गांव के दो सगे भाई परवेज एवं तवरेज, जिसपर आरोप है कि वे कश्मीर से युवतियों को भगा कर लाये हैं। हलाँकि इस मामले में युवतियां उस आरोप को खारिज करते दिख रही है।वह बताती हैं कि वो लड़कों से प्यार करती है और शादी भी कर ली है।
मालूम हो कि राघोपुर थाना क्षेत्र के रामबिशनपुर निवासी परवेज़ आलम और उसका भाई तबरेज रोजी-रोटी की तलाश में कश्मीर गया था, जहाँ रामवन जिले के नागाम बनिहाल गाँव में मजदूरी करने के दौरान नादिया और साइना से जान-पहचान हुई, जो आगे चलकर प्यार में तब्दील हो गईं। इस प्यार को अंजाम तक पहुँचाने की नीयत से दोनो प्रेमी युगल ने घर से भागकर शादी कर ली और युवतियां अपने ससुराल सुपौल पहुँच गयी।
उधर कश्मीर के रहने वाले युवती के पिता यूसुफ ने कश्मीर में अपने नाबालिग लड़की के अपहरण का केश दर्ज करवाया था। जिस मामले में केस के अनुसंधान को लेकर कश्मीर पुलिस, सुपौल पहुँच कर स्थानीय पुलिस के मदद से दोनों युवतियों को बरामद कर आगे की कार्रवाई में जुट गयी है। साथ ही मामले में दोनों आरोपी परवेज और तबरेज़ को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं दोनों आरोपी भाइयों का कहना है कि मैं बालिग हूँ और मेरी प्रेमिका सह पत्नी भी बालिग है। इसलिये मैंने कोई अपराध नहीं किया है। रजामंदी से शादी हुई है।
अब देखने बाली बात ये होगी कि क्या लड़की बालिग है या नहीं ? यह तो मेडिकल जांच रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगा।

- Advertisement -