कृषि कानून के विरोध में छातापुर में दिखा बन्दी का मिला जुला असर

0
74
- Advertisement -

केंद्रीय श्रमिक संगठन व किसान मोर्चा के संयुक्त आह्वान पर आयोजित बिहार बंद का छातापुर में मिला जुला असर दिखा । सुबह के 7 बजे से ही महागठबंधन के कार्यकर्ता जागरूक होकर सड़क पर बिभिन्न टोलियों में शामिल होकर उतर गए। टोली द्वारा लोगों तथा दुकानदारों से बिहार बंद को सफल बनाने की अपील करते हुए दुकान बंद करवाते दिखे। कार्यकर्ता छातापुर के मुख्य बाजार, बस स्टैंड, ब्लॉक चौक, हाई स्कूल चौक आदि स्थानों पर अवरोधक लगातार चक्का जाम भी किया। जिस कारण जदिया बलुआ मुख्य मार्ग स्टेट हाइवे 91 पर बस पड़ाव के समीप बस तथा ट्रकों की लाइनें लग गई। कार्यकर्ता चार चक्का, तीन चक्का तथा दो चक्के वाहनों के भी परिचालन बाधित करते देखे गए। कार्यकर्ता लोगों को बार बार बन्दी को सफल बनाने की अपील करते देखे गए। हालांकि महागठबंधन के कांग्रेस, राजद, भाकपा तथा जाप कार्यकर्ता भी इस बंदी को सफल बनाने में अपने अपने तरीके से संकल्पित होकर जूटे दिखे।

- Advertisement -

महागठबंधन के कार्यकर्ताओं ने बताया कि प्रखण्ड क्षेत्र में आहूत बिहार बंद सफल रहा। यहां बता दे कि सुबह से जारी बंदी से दोपहर बाद तक वाहनों का परिचालन बाधित रहा। छातापुर में महागठबंधन के नेतृत्व में भाकपा अंचल सचिव रघुनंदन पासवान, राजद अध्यक्ष मो.हसन अंसारी, कांग्रेस प्रखण्ड अध्यक्ष ललन कुमार यादव की संयुक्त अध्यक्षता में पार्टी नेताओं , युवा कार्यकर्ताओं, मजदूर, किसान तथा युवा छात्र ने बंदी को सफल बनाने में जुटे दिखे।

महागबन्धन के नेताओं ने बताया कि तीन कृषि कानून रद्द करने, मजदूर हितेषी 44 श्रम कानून को रद्द कर चार लेबर कोड बनाये गए को रद्द करने, लॉक डाउन की अवधि यानी साल 2020 की बिजली बिल वापस लेने, गैस के दामों में बढ़ोतरी, पेट्रोल के दामों में हुई बढ़ोतरी को वापस लेने, बढ़ती महंगाई को वापस लेने, बढ़ती अपराधिक घटनाओं पर रोक लगाने , बेरोजगारी को खत्म करने समेत बिहार विधान सभा मे विपक्षियो के साथ किये गए मारपीट व अप्रिय घटना की उच्च स्तरीय जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई किये जाने की मांगों के समर्थन में आहूत हुई है।

भाकपा नेता श्री पासवान ने कहा कि सरकार की गलत आर्थिक नीति के कारण आमजन परेशान है लेकिन सरकार कुछ नही कर रही है। उन्होंने कहा कि बिहार बन्दी को सफल बनाने को लेकर कार्यकर्ता सुबह से ही जगरूक बने रहे। कार्यकर्ताओं ने सरकारी दफ्तर, बैंक टेम्पू रिक्शा, बस कार्यालय को बंद करवाये। बन्दी के बाद कार्यकर्ताओं ने ब्लॉक के आगे बैठकर प्रदर्शन भी किया।

मौके पर पूर्व प्रमुख धीरेंद्र यादव, शुशील कुमार मंडल, मजहरुल हक खां, शेख जइम, अरविंद यादव, डॉ. विपिन कुमार, प्रमोद यादव, प्रकाश मंडल, शंकर कुमार, सहदेव यादव, बेचन सिंह, जगदेव यादव, सुभाष कुमार यादव, अम्बेडकर कुमार, केशव कुमार, गोलू कुमार, संतीश कुमार, महेंद्र यादव, सूर्य नारायण पासवान आदि थे।

एन के सुशील
कोशी की आस@छातापुर, सुपौल

- Advertisement -