महीनों बाद धनतेरस में लौटा बाजारों का रौनक

0
52
- Advertisement -

सुपौल जिले के छातापुर के बाजार में धनतेरस को लेकर आज दिनभर चहल पहल बनी रही। धनतेरस पर्व को लेकर लोग बाज़ारों में जमकर खरीदारी करने में जुटे हुए है। धनतेरस व दीपावली जैसे महान पर्व के मौके पर लोग पूज न सामग्री सहित लक्ष्मी—गणेश की मूर्तियो की खरीदारी कर रहे है।

वहीं ख़रीदारों की भीड़ के कारण बाजार में दिनभर जाम से जूझते रहे लोग। इधर धनतेरस को लेकर शहर की दुकानें गली—मोहल्लों और बाजारों में सज गई है। खास बात यह है कि इस बार अधिकांश दुकानदारों ने इको फ्रेंडली मूर्तियों को तरहीज दे रहे हैं। मिट्टी से बनी मूर्तियों को इस बार बहुत सलीके से सजाया गया है। जो की बाहर से बाजारों में बिक्री के लिए आई है। दीपावली पर बाजार में इस बार में मिट्टी की इको फ्रेंडली मूर्तियों की खूब मांग है। प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी छोटी-बड़ी मूर्तियों से पटा बाजार इस बार बंगाल की मिट्टी से बनी मूर्तियां की खुशबू से महक रहा है।

- Advertisement -

लक्ष्मी पूजन के लिए बाजार में गणपति, लक्ष्मी और कुबेर की इको फ्रेंडली मूर्तियां मिल रही हैं। बाजार के दुर्गा मन्दिर चौक, मुख्य बाजार, बस स्टैंड चौक, हाई स्कूल चौक, ब्लॉक चौक आदि स्थानों पर मूर्तियों की दुकानें सजी हुई है। लोग अपने बजट के अनुसार मूर्तियों की खरीद कर रहे हैं। सौ रुपये से 500 सौ रुपये तक की आकर्षक मूर्तियां बाजार में उपलब्ध है। गणेश—लक्ष्मी की मूर्तियां में लोगों की पहली पसंद शांत स्वभाव पद्धसन मुद्रा की मूर्तियां हैं।

मूर्तियां में कदंब पर विराजमान लक्ष्मी—गणेश, सिंहासन पर बैठे गणेश जी, सेठ रूप में गणपति, उल्लू वाहन पर लक्ष्मी जी, हाथी व चुहे के साथ गणपति, गज लक्ष्मी सहित अन्य मूर्तियां बाजार में उपलब्ध है। जिसकी लोग जमकर खरीदारी कर रहे हैं। खास बात की इस बार लोग पर्यावरण का ख्याल रख कर भी जमकर खरीदारी कर रहे है। इसके अलावे लोग सपरिवार अपने कपड़ों सहित पटाखों की खरीददारी करने में जुटे हुए है। मगर सड़क जाम होने से लोग परेशान नज़र आये।

एन के सुशील
कोशी की आस@सुपौल

- Advertisement -