सुपौल : अस्पताल में ऑपरेशन के बाद महिला की मौत नाराज़ परिजनों ने किया सड़क जाम।

0
371
- Advertisement -

सोनू आलम / बलराम कुमार
कोसी की आस @ त्रिवेणीगंज,सुपौल।

- Advertisement -

डॉक्टर को धरती का भगवान कहा जाता है, इसी उम्मीद से लोग डॉक्टर के पास इलाज के लिए जाते हैं, किन्तु जब इलाज के बाद मरीज की मौत हो जाए तो परिजन का गुस्सा भड़कना लाजिमी है। लेकिन कोसी की आस अपने पाठकों से कहना चाहती है कि गुस्सा होना और कानून को हाथ में लेना दोनों अलग-अलग है और किसी को भी कानून को हाथ में लेने की भारतीय संविधान इजाज़त नहीं देती।

मामला पिपरा पीएससी से संबंधित है, पिपरा थाना क्षेत्र के दिनापट्टी निवासी उपेन्दर मुखिया की पत्त्नी ऊषा देवी जो पांच बच्चों की माँ थी, उसे परिवार नियोजन ओपेरेशन के लिए पिपरा पीएचसी में भर्ती कराया गया था। जहाँ ऑपरेशन के बाद महिला की मौत हो गयी परिजनों का आरोप है कि कल महिला को परिवार नियोजन के लिए पिपरा पीएचसी लाया गया था, देर शाम अस्पताल में पदस्थापित डॉक्टर ने ओपेरेशन किया, जिसके बाद महिला की हालत बिगड़ने लगी डॉक्टर ने परिस्थिति की नजाकत को देखते हुए तत्काल मरीज को सुपौल रेफर कर दिया, लेकिन जैसे ही मरीज को लेकर उसके परिजन सुपौल निकले रास्ते में ही महिला की मौत हो गयी।

उक्त घटना के बाद आज तड़के मृतका के परिजन ने पिपरा बाजार में लाश को सड़क पर रख सड़क जाम कर दिया है। परिजनो का आरोप है कि डॉक्टर की लापरवाही के कारण महिला की मौत हुई है। करीब तीन घंटे से लगी जाम को स्थानीय सीओ और पिपरा पुलिस ने जाम स्थल पर पहुंच जाम हटाने की कोशिश की पर जामकर्ता मुआवजे सहित दोषी डॉक्टर के विरुध कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। जाम के कारण एनएच 327 ई पर आवाजाही ठप्प हो गयी है।

- Advertisement -