तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश से परेशांन आम-जनमानस, बाँध को नुकसान होने का डर

0
215
- Advertisement -

सोनू कुमार भगत / अक्षय कुमार

कोसी की आस@सुपौल

- Advertisement -

जिले में तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश से तबाह लोगों को अब भी सकून नही। मौसम विभाग ने पूरे बिहार में अगले 24 घंटे में भी भारी बारिश की आशंका व्यक्त किया है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार राज्य में दक्षिण पश्चिमी मॉनसून सक्रिय है। इसके अलावा साइक्लोनिक सर्कुलेशन दक्षिणी उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के ऊपर बना हुआ है। वहीं, एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बंगाल की खाड़ी के उत्तरी पूर्वी व झारखंड के कुछ भाग में भी बना हुआ है। इसका असर पूरे राज्य में देखने को मिल रहा है। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि ऐसी स्थिति में अभी राहत मिलने की संभावना नहीं है। राज्य के 15 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया गया है, जबकि 11 जिलों में ऑरेंज अलर्ट के साथ बाकी सभी जिलों में मध्यम से भारी बारिश को लेकर चेतावनी जारी की गयी है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार पूरे राज्य में 52 एमएम औसत बारिश शनिवार की शाम तक रिकॉर्ड की गयी है।

किन जिलों में है रेड व ऑरेज अलर्ट?

राज्य के 15 जिलों में 21 सेंटीमीटर से अधिक बारिश होने की आशंका है, इसमें सुपौल जिले समेत अररिया, किशनगंज, बांका, समस्तीपुर, मधेपुरा, सहरसा, पूर्णिया, दरभंगा, भागलपुर, खगड़िया, कटिहार, वैशाली, भोजपुर व सारण हैं। इन जिलों को मौसम विज्ञान केंद्र के अनुमान के आधार पर रेड अलर्ट (अत्यधिक भारी बारिश) की चेतावनी जारी की गई है।  इसके अलावा 11 जिलों में ऑरेज अलर्ट (अधिक भारी बारिश) यानी 12 से 20 सेंटीमीटर की संभावना व्यक्त की गयी है। इनमें पूर्वी चंपारण, शिवहर, सीतामढ़ी, पटना, सीवान, बेगूसराय, बक्सर, जमुई, मधुबनी, मुजफ्फरपुर और मुंगेर हैं। रेड अलर्ट (अत्यधिक भारी बारिश) की चेतावनी से सुपौल जिले के लोग सहमे हुये है, लोगों को डर सता रहा कि कहीं इसका असर बाँध पर न हो। दिन रात बारिश से जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है, छातापुर, चुन्नी, लालगंज, रामपुर, माधोपुर, सोहटा, बलुआ आदि पंचायतों में होने वाली पूजा पर भी बारिश का असर दिख रहा है।

- Advertisement -