वर्तमान संकट के बीच बिहार का यह व्यक्ति आपातकाल की स्थिति में गरीबों के लिए बना हुआ है मसीहा।

0
89
- Advertisement -

कोरोना महामारी के बीच बिहार का यह व्यक्ति आपातकाल की स्थिति में गरीबों के लिए बना हुआ है मसीहा। इस शख्स ने लगातार भारत में चल रहे लॉक डाउन के दौरान जमीनी स्तर पर जनता के बीच जाकर अनाज से लेकर राहत की हर एक सामग्री पहुंचाई है। जी हां हम बात कर रहे हैं पटना के निवासी मोहम्मद खालिद अजीम की, जो लगातार इस मुश्किल परिस्थिति में हर समुदाय के गरीबों के लिए बढ़-चढ़कर आगे आए हैं, इनके लिए समाज सेवा मजहब से भी बड़ी दायित्व है। सभी संप्रदाय के लोगों से इस संकट की घड़ी में जरूरतमंदों के लिए आगे आने की अपील की। जिस तरीके से भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा सात वचनों में से एक वचन था “अपने आसपास के गरीबों को भूखा नहीं सोने दे” , उसी वचन को पूरी बखूबी से यह शख्स निभा रहा है। खालिद जैसे कई शख्स को आगे आने की जरूरत है, क्योंकि यह कोरोना की लड़ाई किसी संप्रदाय से नहीं बल्कि देश से हैं और देश ऐसे इंसान को सलाम करता है।

मोहम्मद खालिद के द्वारा जरूरतमंदों के लिए इस lockdown मे प्रतिदिन खाद्य सामग्री से मदद पहुंचाई जा रही है, इनका प्रयास है किसी जरूरतमंद व्यक्ति को इस संकट की घड़ी में भूखा नहीं सोने दे। साथ ही साथ यह भी बताया की कोरोना वायरस की संक्रमण के चैन को तोड़ने के लिए पूरे देश में lockdown किया गया है, जिसमें गरीबों एवं वंचितों को आर्थिक रूप से परेशानी झेलनी पड़ रही है, संकट के इस घड़ी में कई सामाजिक संगठन को आगे बढ़ चढ़कर गरीबों की मदद करने की आवश्यकता है। इनके द्वारा लगातार प्रशासन की मदद से कंकड़बाग थाने, दीघा थाना, परसा थाना, गांधी मैदान थाना, फुलवारी शरीफ थाना लगातार गरीबों के बीच अनाज का वितरण किया गया है, आगे इस lockdown मे यह लगभग थाना की सहायता से पटना जिले के हर क्षेत्र में इस मुहिम को जारी रखेंगे

- Advertisement -

इस संकट की घड़ी में सड़कों पर घूम रहे आवारा जानवरों के लिए भी यह इंसान काफी आगे आया है, इनके द्वारा जानवरों के लिए भी रोटी एवं खाने का वितरण किया जा रहा है। शुरुआती lockdown के समय से ही यह शख्स अपने साथियों के साथ मिलकर खाद सामग्री की पैकिंग एवं भोजन बनाने का काम कर रहे हैं l इनका वितरण गरीबों के बीच डोर टू डोर तक जाकर किया जाता है।

इन्होंने गरीबों के बीच यह आश्वासन जताया है कि जब तक यह lockdow समाप्त नहीं हो जाता और जब तक गरीबों की आर्थिक स्थिति में सुधार नहीं आ जाता, तब तक खालिद और इनके टीम इस तरीके के नेक काम को करते रहेंगे और किसी गरीब को भूखा नहीं सोने देंगे।

विवेक कुमार यादव
कोशी की आस@पटना

- Advertisement -