नए-नए UPSC 2018 टॉपर “कनिष्क कटारिया” के बयान ने कई युवाओं को दिया जीवन-दान…..

0
649
- Advertisement -

UPSC Civil Services 2018 में टॉप करने वाले “कनिष्क कटारिया” ने ANI से बातचीत के दौरान जैसे ही अपनी इस सफलता का श्रेय माता-पिता, बहन के साथ-साथ Girl Friend (प्रेमिका) को दिया, Girl Friend का नाम आते ही, समझिए तो सोशेल मीडिया में भूचाल आ गया। “कनिष्क कटारिया” ने आगे क्या कहा किसी को सुनना नहीं था, सबने बस इतना जानना काफी समझा कि लड़का UPSC में 1st रैंक लाया है और साहस के साथ सबके सामने अपनी सफलता का श्रेय Girl Friend को भी दिया।

सोशेल मीडिया पर “कनिष्क कटारिया” के बयान के बाद आने वाले कमेंट में से कुछ खास बताते है:-

- Advertisement -

मिलिंद नाम से twiter a/c : देखो first guy जो अपनी सफलता का श्रेय अपनी गर्लफ्रैंड को दिया।great man,

तो एक नए कहा: ये कहना बहुत हिम्मत की बात है खासकर अपने parents के सामने। best wishes?

तो किसी ने कहा :

My girlfriend”

अच्छा लगा , बहुत कम लोगों को इतनी guts के साथ कैमरे के सामने बोलते देखा।

एक नए ने अपने अंदाज में कहा कि : Absolutely!!!

उसके अपनी सफलता के श्रेय में अपने गर्लफ्रैंड को देने के बाद, जो बच्चे अपने माता-पिता के साथ अपने प्रेम जीवन के बारे में विवरण साझा करने में हीन महसूस करते हैं उन्हें मदद मिलेगी। साथ ही उसने कहा …. देश बदल रहा है।

एक नए कहा : यह देशी parents के लिए संदेश है।

It’s very sweet! And good message to desi parents. आदि।

वो क्या है न कि हम-सब करते सब हैं, लेकिन स्वीकार नहीं करते, आख़िर वो तथाकथित आडंबर वाला जो अपना सभ्यता, संस्कृति वाला जो बात है। अभी भी हमारी भारतीय संस्कृति में सबसे बड़ी विडम्बना मध्यम तबके के साथ है। सबसे ऊपर वाला जो तबका है उनको इस सभ्यता, संस्कृति से ज्यादा मतलब नहीं उनको मन हो तो मानें, नहीं हो तो न मानें, ठीक उसी तरह गरीब तबके के लोगों के साथ है, असल में उनके पास विकल्प ही नहीं। जाहीर सी बात है फस जातें हैं बेचारे बीच वाले (मध्यम तबका) ये देखते सब हैं किन्तु सब कर नहीं पाते।

 

 

ख़ैर “कनिष्क” की बात करते हैं:-

आईआईटी मुंबई से कम्प्यूटर साइंस की पढ़ाई करने वाले कनिष्क ने वैकल्पिक विषय के रूप में गणित लिया था। कनिष्क ने ANI से बात करते हुए कहा कि यह बेहद आश्चर्यजनक क्षण है। उन्होंने बताया कि मुझे उम्मीद नहीं थी कि मैं पहली रैंक हासिल करूँगा। कनिष्क का कहना है कि पास होने की उन्हें पूरी उम्मीद थी लेकिन ऑल इंडिया टॉप करने की बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी। ऐसे में परिणाम आने के बाद जब रिजल्ट देखा तो सचमुच खुशी का ठिकाना नहीं रहा। कनिष्क ने कहा – लोग मुझसे एक अच्छा प्रशासक बनने की उम्मीद करेंगे और मेरा इरादा भी यही है।

आपको बताते दें कि कनिष्क ने पिता सांवरलाल वर्मा भी IAS अधिकारी हैं।

बता दें, संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने शुक्रवार को सिविल सेवा की फाइनल परीक्षा के परिणाम घोषित किए। यूपीएससी ने एक बयान में बताया कि आयोग ने आईएएस, आईपीएस और आईएफएस आदि पदों पर नियुक्ति के लिए कुल 759 अभ्यर्थियों के नाम घोषित किए हैं जिनमें 577 पुरुष और 182 महिलाएं हैं।

कोसी की आसपरिवार की ओर से “कनिष्क कटारिया” के साथ-साथ संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में सफल सभी प्रतिभागियों को उनकी इस अनुपम सफलता के लिए उनको तथा उनके परिवार को बहुत-बहुत शुभकामनायें देती है।

Pic Source- Google Image, ANI

- Advertisement -