लॉकडाउन नहीं होता तो अगले 14 दिनो मे पुरा हिंदुस्तान होता कोरोना ग्रसित, अगर विश्वास नहीं तो एकबार जरुर पढ़ें

0
210
- Advertisement -

स्पेशल डेस्क

कोशी की आस@पटना

- Advertisement -

देश में तेजी से कहर ढाने को तैयार कोरोना वायरस से बचाने प्रधानमंत्री ने पूरे देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लगा दिया है। अब सवाल उठ रहे हैं कि आखिर इस 21 दिन का लॉजिक क्या है? साथ ही लोगों के दिमाग में यह भी सवाल है कि क्या ये 21 दिन इस वायरस से लड़ने के लिए काफी होगा कि नहीं?

दरअसल 21 दिनों के पीछे का लॉजिक यह है कि कोरोना वायरस 14 दिन तक सक्रिय रहता है और मरीज़ में लक्षण 7 दिन में दिखने लगते है। 14 दिन यानी 7 अप्रैल तक पता चल जाएगा कि कौन बीमार है और कौन नहीं? जो बीमार है, वो घर में ही रहा तो अगले 7 दिन यानी 14 अप्रैल तक उनके परिवार के लक्षण भी दिख जाएंगे।  इससे कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड नहीं होगा।

वहीं कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह एक आवश्यक कदम है, लेकिन गरीबों पर इसका बहुत कठोर हो सकता है। हालांकि भीड़ कोरोना वायरस फैलने में मदद करती, इसलिए इस तरह का लॉकडाउन बेहद जरूरी था। लॉकडाउन का उद्देश्य अगले 21 दिनों में वायरस के प्रसार को कम करना है तथा स्वास्थ्य अधिकारियों का काम यह है कि वह कोरोना संक्रमित मरीजों का पता लगाएं और रोगियों की संख्या को जितना हो सके उतना कम करें।

बता दें की लॉक डाउन से पहले तक देश में 562 मरीज कोरोना पॉजिटिव के मिले थे, जिसमें से लगभग 40 को सही किया जा चुका था और 12 की मृत्यु हो चुकी थी।

अगर लॉक डाउन नही होता तो क्या होता

यदि लॉकडाउन नही होता तो अगले 14 दिनो में पुरा हिंदुस्तान होता कोरोना ग्रसित, अगर विश्वास नही तो  बिहारी मैथेमैटिक्स गुरु के गणितीय कांसेप्ट को जरुर देखे। मैथेमैटिक्स गुरू फेम आरके श्रीवास्तव ने प्रधानमंत्री के दूरदर्शी सोच को सराहा। उन्होने बताया कि लॉकडाउन से पहले कोरोना से 562 लोग ग्रसित हो चुके थे, यदि यह लॉकडाउन नही होता हो अगले 14 दिनो मे पुरा देश कोरोना के चपेट मे आ जाता। आप आरके श्रीवास्तव के इस गणितीय कांसेप्ट को जरुर समझे।

HOW  CORONA  VIRUS  INCREASES ?

If one person is confirmed covid-19 positive with tests in india, if he may contact minimum 3 persons in that days.

The symptoms can be seen with in 14 days, then

a =1 , r=3 , n =14

hence, total number of people going to affect,

Sn = a (  r^n- 1 )/ r-1

Sn= 1( 3^14 -1)/3-1

 

= 4782969-1/2

= 23,91,484

If number of cases registered before lock down was 562, then in next 14 days

Sn = 562  ( 3^14-1)/2

= 134,40,14,008

i.e, whole country may be affected with covid-19.

अब तो आप समझ गये होंगे कि लॉकडाउन क्यूँ जरुरी था? यदि लॉकडाउन नही होता तो अगले 14 दिनो में पूरे देश की 130 करोड़ से अधिक आबादी इसके चपेट मे आ जाता, जैसा कि गणित का यह सटीक अनुमानिक विश्लेषण बता रहा है।

- Advertisement -