भारतीय रेल इतिहास की सबसे बड़ी दुर्घटना बिहार में आज से ठीक 39 साल पहले हुई थी

0
591
- Advertisement -

भारतीय रेल इतिहास की सबसे बड़ी दुर्घटना आज के ही दिन 6 जून 1981को हुई थी जब मानसी से सहरसा की तरफ 416 डाउन ट्रेन बागमती नदी पर ट्रेन दौड़ी चली जा रही थी। भारी बारिश की वजह से लोग अपनी अपनी- अपनी बोगी की खिड़कियां बंद कर लिए थे। 9 डिब्बे वाली ट्रेन में हजारों लोग सफर कर रहे थे उनमें से 7 डिब्बे पुल को तोड़ते हुए नदी में गिर गई और हजारों लोग काल के गाल में चले गए। लोग मदद की गुहार लगाते रहे लेकिन मदद के लिए घंटों तक कोई नहीं पहुँच पाया था।

यह दुर्घटना कैसे हुई आज भी रहस्य बनी हुई है

- Advertisement -

यह दुर्घटना कैसे हुई यह आज तक रहस्य बना हुआ है इसकी दो वजह मानी जाती हैं कुछ लोगों का कहना है कि ट्रेन के आगे गाय आ गई थी जिसे बचाने के लिए ड्राइवर ने ब्रेक मारी और फिर पटरी पर से गाड़ी फिसल गई। और फिर पुल तोड़ते हुए इसके 7 डब्बे नदी में चले गए। तो वहीं कुछ लोग उनका कहना है कि काफी तेज तूफान सह वारिश आ गई थी जिस वजह से लोगों ने खिड़कियां बंद कर ली थी। ताकि पानी गाड़ी के अंदर प्रवेश न कर सकें। और जैसे ही गाड़ी पुल पर चढ़ी तो फिर तूफान तेज होने की वजह से हवा क्रॉस नहीं कर पाई और उस दबाव को नहीं झेल पाने के कारण ट्रेन पुल को तोड़ते हुए नीचे नदी में समा गई।

मौत का आंकड़ा

भारत में ऐसा कहा जाता है कि ट्रेन में जितनी सीटें लोगों के लिए बनाई गई उससे तीन गुना ज्यादा लोग सफर करते हैं। कुछ लोग तो बिना टिकट के भी सफर करते हैं। इसलिए कहा जा सकता है कि ट्रेन में कितने लोग रहे होंगे ये सही सही बताना मुश्किल होगा। तत्कालीन सरकारी रिपोर्ट में बताया गया था कि 500 लोग ही ट्रेन में थे लेकिन बाद में कुछ रेल अधिकारी व उस क्षेत्र के लोगों का कहना था कि करीब हजार से तीन हजार के बीच में मौतें हुई थी।

- Advertisement -