दौलत और शोहरत में काफी ताकत होती है, की बेहतरीन उदाहरण सिंगिंग सेंसेशन रानू मंडल

0
702
- Advertisement -

दौलत और शोहरत में काफी ताकत होती है, जब यह दोनों न हो तो इंसान को अपने भी छोड़ देते हैं और जब यह दोनों आ जाए तो अपनों की कतार लग जाती है, कुछ ऐसा ही हुआ है, सिंगिंग सेंसेशन रानू मंडल के साथ।

ज़िन्दगी की कामना न करें, बल्कि प्रार्थना करें की आपको ज़िन्दगी की मुश्किलों का सामना करने की ताकत मिले। भाग्य में जो लिखा है वह समय पर जरूर मिलेगा, तबतक धैर्य और इमानदारी से कर्म करना पड़ता है, नहीं तो भाग्य का लिखा भी लौट जाता है।

- Advertisement -

जी हाँ, यह कहानी माँ सरस्वती की कृपा से लबरेज़ सुर-साम्राज्ञी लता मंगेशकर की आवाज में रेल्वे स्टेशन पर गाना गाकर गुजारा करने वाली रानू मंडल आज किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। उनकी कहानी लोगों के लिए प्रेरणा की तरह काम कर रही है। आज हर जगह लोग उनके बारे में पढ़ने और उनके जीवन के बारे में जानने के लिए बेताब है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आज सेलेब्रिटी बन चुकीं रानू को, कभी उनकी ही बेटी ने बसहारा छोड़ दिया था। जो अब शोहरत आते ही उनके जीवन में लौट आई है।

एक प्यार का नगमा है’ गाने से सोशल मीडिया पर चर्चित हुईं रानू मंडल के लिए भगवान का दूत बनकर आए अतींद्र चक्रवर्ती नाम के एक शख्स ने वीडियो शूट करके सोशल मीडिया पर शेयर किया और वह वीडियो वायरल हो गया।

रानू मंडल आज पूरे देश की धड़कन या आवाज़ बन गई हैं। उन्हें बॉलीवुड सिंगर और म्यूजिक डायरेक्टर हिमेश रेशमिया ने अपनी फिल्म में गाने के लिए चांस भी दिया है। मगर एक वक्त ऐसा भी था जब रानू को कोई नहीं जानता था। वो स्टेशनों पर गाना गाकर अपना पेट भरती थीं।

रानू मंडल बंगाल में नदिया जिले के राणाघाट की रहने वाली हैं। उनकी शादी मुंबई में रहने वाले बाबुल मंडल से हुई थी। पति के देहांत के बाद वह वापस अपने घर राणाघाट लौट आई थीं। रानू को उनके घर से ज्यादा सपोर्ट नहीं मिला। ऐसे में वह अपना पेट भरने के लिए स्टेशन पर बैठकर गाना गाने लगीं। वहाँ लोग उनको बदले में रुपए और खाना देकर जाते थे।

मां की ऐसी हालत देख, उनकी बेटी ने उनसे बोलना बंद कर दिया। रानू के मुताबिक उनकी बेटी ने शर्मिंदगी की वजह से उनसे कोई रिश्ता नही रखा। रानू मंडल ने बताया कि दस साल से वह अपनी बेटी से बात नहीं की थी।

रानू मंडल के अनुसार गाना-गाने का शौक उन्हें बचपन से ही था। वो 20 साल की उम्र में एक क्लब के लिए गाना गाती थीं। तब लोग उन्हें रानू बॉबी बुलाते थे। इससे उन्हें अच्छा पैसा भी मिल रहा था। मगर समाज और परिवार के दबाव के चलते, उन्हें ये काम छोड़ना पड़ा था। रानू मंडल बताती है कि उन्हें दूसरा काम नहीं आता। उनकी दिलचस्पी संगीत में ही रही है। इसलिए वो स्टेशन पर बैठकर भी गाना ही गाती थीं।

हिमेश रेशमिया ने रानू मंडल को हैप्पी होर्डिं एंड हीर’ का गाना तेरी मेरी’ गाने के लिए करीब 6-7 लाख रुपये का ऑफर दिया। लेकिन रानू ने इतने सारे पैसे लेने के लिए मना कर दिया। हिमेश ने रानू को जबरदस्ती पैसे दिए और कहा कि बॉलीवुड में तुम्हें सुपरस्टार बनने से कोई नहीं रोक सकता है। हाल ही में रानू को सोनी टीवी पर सिंगिंग शो सुपर-स्टार सिंगर के स्टेज पर देखा गया।

रानू मंडल की बॉलीवुड में एंट्री हुई और रानू की बेटी उनके पास दौड़ी चली आई। बेटी के आने से रानू अब खुशी से फूले नहीं समा रहीं। रानू ने कहा- यह मेरी दूसरी जिंदगी है और अब मैं इसे बेहतर बनाने की कोशिश करूंगी।’

- Advertisement -