लॉकडौन 4.0 के बाद अनलॉक 1.0 का पहला चरण 8 जून से लागू होगा

0
76
- Advertisement -

लॉकडौन 4.0 जिसकी मियाद 31 मई को समाप्त हो रही थी लोग यह सोच रहे थे कि अब इसकी मियाद बढ़ाई जाएगी या फिर नहीं इन सभी अटकलों पर विराम तब लग गया जब 30 मई को शाम में अनलॉक 1.0 की घोषणा की गई। अनलॉक 1.0 नाम इसलिए दिया गया क्योंकि इसमें चरणबद्ध तरीके से सुविधाओं और सेवाओं को बहाल किया जाएगा। हालांकि पूरा काम तीन चरणों में होगा। पहला चरण 8 जून से लागू होगा। दूसरा चरण जुलाई से लागू होगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लॉकडौन के बाद की स्थिति को अनलॉक का नाम दिया है।

हालांकि एक राज्य दूसरे राज्यों के लिए पास की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया गया है। यह राज्य सरकार और जिला प्रशासन अपने विवेक से इसे लागू कर सकते हैं। साथ ही जहां लॉकडौन 4.0 फोर में कर्फ्यू की अवधि सुबह 7:00 बजे से शाम 7:00 बजे की थी तो वहीं अब अनलॉक 1.0 में कर्फ़्यू की अवधि आधी रात 9:00 बजे से सुबह 5:00 बजे तक लागू रहेगी। इस दौरान लोगों को जरूरी आवश्यकताओं के अलावा घरों से बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी।

- Advertisement -

पहला चरण 8 जून से लागू होगा

इसमें धार्मिक स्थल, रेस्टोरेंट हॉस्पिटैलिटी सेवाएं, शॉपिंग मॉल होटल आदि खोला जाएगा तो वहीं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय इसके लिए आवश्यक एसओपी भी जारी करेगा जिससे कि सोशल डिस्टनसिंग का पालन हो सके। जिससे कोरोना वायरस की बीमारी को फैलने से रोका जा सके।

वहीं दूसरा चरण जुलाई से लागू होगा

इसमें स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक संस्थान, कोचिंग इंस्टीट्यूट आदि खोले जाएंगे। इन्हें खोलने का निर्णय राज्य सरकार करेंगे। इसके लिए अभिभावकों की राय ली जाएगी और फीडबैक के आधार पर इंस्टिट्यूशन को खोलने का फैसला लिया जाएगा। इसके लिए भी बाद में एसओपी जारी की जाएगी।

तीसरे चरण

तीसरे चरण को उस समय की वर्तमान स्थिति यानि पहले व दूसरे चरण के बाद बनी स्थिति के आधार पर लागू किया जाएगा। यदि सब कुछ ठीक रहा तो संभव है कि इसमें अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट सिनेमा हॉल, जिम, स्विमिंग पूल, मेट्रो, मनोरंजन पार्क, थिएटर,बार ऑडिटोरियम, सभा स्थल आदि भी खोले जा सकते हैं। खासकर मेट्रो पर जो अटकलें लगाई जा रही थी फिलहाल रोक लगा दी गई है।

साथ ही नई गाइडलाइन में बताया गया है कि कंटेनमेंट जोन में शक्तियां लागू रहेंगी उसमें जरा भी ढील नहीं दी जाएगी।

कंटेनमेंट जोन में केवल बेहद जरूरी गतिविधियों कोई अनुमति होगी। जैसे मेडिकल इमरजेंसी व आवश्यक आपूर्ति को छोड़कर इलाकों में लोगों की आवाजाही पर रोक लगेगी। साथ ही बड़े बुजुर्गों को भी घरों में रहने की सलाह दी गई है जो पहले भी बताया जा चुका है 65 वर्ष से अधिक उम्र 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे को घर से बाहर ना निकले। अति आवश्यक होने पर ही वह घर से बाहर निकले।

सार्वजनिक स्थलों के लिए जो दिशा निर्देश जारी किए गए हैं उसमें

1.बाहर निकलते वक्त मास्क लगाना जरूरी होगा

2. ज्यादा से ज्यादा घर से काम करने की तवज्जो दी जाएगी

3. सार्वजनिक स्थलों पर 2 गज की दूरी बनाए रखनी होगी

4. किसी भी स्थान पर थूकने पर जुर्माने का प्रावधान होगा।

5. सार्वजनिक स्थलों पर सैनिटाइजर हैंडवाश की व्यवस्था करनी होगी।

6. दरवाजे के हैंडल को लगातार सैनिटाइज करना होगा

7 कार्यालय में सभी को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

साथ ही सरकार द्वारा जो गाइडलाइंस जारी की गई है उसको सख्ती से पालन करना होगा। उसमें बताया गया है कि राज्य और केंद्र शासित सरकारें दिशा-निर्देश में किसी भी स्थिति में ढील नहीं देगी। साथ ही उल्लंघन करने वालों पर आपदा प्रबंधन एक्ट 2005 की धारा 51 से 60 और आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

- Advertisement -