विशेषज्ञों का मानना है कि अप्रैल में होगी कोरोना वायरस की दूसरी लहर अपने चरम पर….

0
137
- Advertisement -

देशभर में कोरोनावायरस का प्रकोप एक बार फिर से बढ़ रहा है बीते 24 घंटे में जारी आंकड़ों के मुताबिक कोविड-19 से 59000 से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र गुजरात में कोरोना की पहली लहर के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोनावायरस की दूसरी लहर आई है जिससे महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। बीते साल मई के बाद पहली बार इतनी तेजी से कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं। जिसे देखकर यह माना जा रहा है कि वैक्सीनेशन शुरू किए जाने के बावजूद संक्रमण की दूसरी लहर पहले से भी अधिक घातक साबित हो रही है।

इधर महाराष्ट्र और गुजरात में कोरोनावायरस की पहली लहर के चलते लोगों में संक्रमण के आंकड़े अपनी चरम सीमा को पाड़ कर रहे हैं। पंजाब में भी कुछ इसी तरह का हाल है। बताते चलें कि 25 मार्च तक के आंकड़े के मुताबिक 1 सप्ताह में भारत में हर दिन औसतन 47442 नए मामले आ रहे थे। 28 अक्टूबर के बाद पहली बार 7 दिन का औसत आंकड़ा इतना ज्यादा पहुंचा। हालांकि कोरोना के फैलने की दर पर नजर डालें तो यह और भी डरावने वाले है। केवल 7 दिन पहले ही देश में कोरोना के मामले का 7 दिन का औसत 28551 था। इसका साफ स्प्ष्ट होता है कि केवल 1 सप्ताह में संक्रमण की मात्र 66 फीसदी से अधिक बढ़ गए हैं।

- Advertisement -

विशेषज्ञों का मानना है कि दूसरी लहर अप्रैल महीने के आखिर में अपने चरम पर होगी और यह लहर 100 दिन तक चलेगा जो कि 15 फरवरी से शुरू हो चुकी है। रिपोर्ट के अनुसार पहली लहर के दौरान महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, केरल, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, दिल्ली और तमिलनाडु ने सबसे खराब प्रदर्शन दिखाया है तो वही कोरोना वायरस की दूसरी लहर में भी महाराष्ट्र, गुजरात और पंजाब हर दिन नए रिकॉर्ड बना रहे हैं।

“दो गज दूरी
मास्क है जरूरी”

स्पेशल डेस्क
कोशी की आस@नई दिल्ली

- Advertisement -